एंडरसन के जवाब में जडेजा पर आरोप तय

इमेज कॉपीरइट Reuters

इंग्लैंड की क्रिकेट टीम के मैनेजर फ़िल नील ने भारतीय खिलाड़ी रवींद्र जडेजा पर जेम्स एंडरसन की ओर आक्रामक और धमकाने वाले अंदाज़ में बढ़ने का आरोप लगाया है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल ने इसकी पुष्टि की है. यह मामला गुरुवार को ट्रेंट ब्रिज में खेले गए पहले टेस्ट के दूसरे दिन का है.

फ़िल नील ने जडेजा पर खिलाड़ियों के लिए मौजूद आईसीसी की आचार संहिता के लेवल दो के तहत आरोप लगाए हैं. इसमें 50 से 100 फ़ीसदी तक मैच फ़ीस या दो निलंबन प्वाइंट का जुर्माना होता है. दो निलंबन प्वाइंट का मतलब है एक टेस्ट या दो अंतरराष्ट्रीय एक दिवसीय मैचों की पाबंदी.

इसमें कहा गया है कि यह झगड़ा खेल भावना के ख़िलाफ़ है और इससे खेल की बदनामी होती है.

आरोपों के मुताबिक़ जब खिलाड़ी पवेलियन में घुसे तो अचानक जडेजा मुड़े और आक्रामक और धमकाने वाली मुद्रा में एंडरसन की तरफ़ गए.

इससे पहले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन पर रवींद्र जडेजा को कथित तौर पर 'गाली और धक्का देने' के आरोप तय किए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर एंडरसन पर आरोप साबित होते हैं तो उन पर चार टेस्टों तक के लिए पाबंदी लग सकती है. इसी के जवाब में इंग्लैंड टीम ने जडेजा पर आरोप तय किए हैं.

'सही क़दम' बनाम 'चाल'

इस मुद्दे पर भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने लॉर्ड्स में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि जेम्स एंडरसन की शिकायत करके उनकी टीम ने सही क़दम उठाया है.

धोनी का कहना था, ''हमें लगता है कि जो हुआ ग़लत था, इसलिए हमने शिकायत की. आपको यह समझना चाहिए कि हमने यह नहीं किया है. जडेजा ने कुछ न करके अच्छा किया है. यह और भी बुरी शक्ल ले सकता था पर उन्होंने इस मामले को बेहद सही ढंग से उठाया है.''

इमेज कॉपीरइट AP

इससे पहले बुधवार को इंग्लैंड टीम के कप्तान एलेस्टर कुक ने भारतीय टीम पर एंडरसन के ख़िलाफ़ शिकायत करके तिल का ताड़ बनाने का आरोप लगाया.

उनका कहना था, ''मैं जानता हूं कि यह बात कहां से शुरू हुई है. यह भारत की चाल है. टीम के सभी लड़के जिम्मी के साथ खड़े हैं.''

आईसीसी ने मंगलवार को अपने बयान में कहा था कि नियमानुसार एंडरसन पर 'लेवेल थ्री' के आरोप लगाए गए हैं. आईसीसी ने कहा है कि मामले की सुनवाई 'जल्द किसी सही समय' पर होगी.

उधर, जेम्स एंडरसन पर आईसीसी के बयान से पहले ही इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने अपना बयान जारी कर दिया था.

ईसीबी ने ज़ोर दिया कि यह घटना 'मामूली' थी और एंडरसन को उनका पूर्ण समर्थन हासिल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार