जडेजा पर जुर्माना, बीसीसीआई नाराज़

रवींद्र जडेजा और जेम्स एंडरसन इमेज कॉपीरइट AP

इंग्लैंड के तेज़ गेंदबाज़ जेम्स एंडरसन के साथ हुए विवाद के चलते रवींद्र जडेजा की आधी मैच फ़ीस काट ली जाएगी.

ट्रेंट ब्रिज में हुआ पहला क्रिकेट टेस्ट ड्रॉ रहा था. उसी मैच के दूसरे दिन लंच के बाद जब दोनों खिलाड़ी मैदान से बाहर गए तब ये विवाद हुआ.

पढ़िए क्या था जडेजा पर आरोप

जडेजा पर आरोप था कि वह एंडरसन की ओर धमकाने वाले और आक्रामक अंदाज़ में आगे बढ़े थे.

इस बीच भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई ने इस फ़ैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वह इससे संतुष्ट नहीं है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जडेजा पर जो आरोप तय किए गए थे, उनमें वह दोषी नहीं पाए गए.

मगर मैच रेफ़री डेविड बून ने जडेजा के बर्ताव को खेल की भावना के अनुरूप नहीं पाया. इसलिए उन पर ये जुर्माना किया गया है.

एंडरसन पर आरोप

इमेज कॉपीरइट Reuters

दूसरी ओर एंडरसन पर आरोप है कि उन्होंने जडेजा के साथ 'गाली-गलौज की और धक्का' भी दिया.

पढ़िए जेम्स एंडरसन से जुड़ा क्या है मामला?

एंडरसन की सुनवाई एक अगस्त को होनी है. तब तक इस सिरीज़ का तीसरा टेस्ट मैच भी ख़त्म हो जाएगा. वो मैच साउथैम्पटन में होना है.

उन पर जो आरोप लगाए गए हैं, अगर वह उनमें दोषी पाए जाते हैं तो एंडरसन पर चार टेस्ट मैचों का प्रतिबंध लग सकता है.

भारत ने लॉर्ड्स में हुआ इस सिरीज़ का दूसरा मैच जीत लिया था. इस तरह सिरीज़ में उसे 1-0 की बढ़त हासिल है.

इमेज कॉपीरइट AFP

फ़ैसले के बाद बीसीसीआई की ओर से जारी बयान में कहा गया है, "बीसीसीआई ने रवींद्र जडेजा के मामले में मैच रेफ़री का फ़ैसला देखा है. बीसीसीआई ये स्पष्ट करना चाहता है कि वह इस फ़ैसले से संतुष्ट नहीं है. बीसीसीआई के पास इस फ़ैसले के विरुद्ध अपील का अधिकार है."

बयान के मुताबिक़, "बीसीसीआई मानता है कि रवींद्र जडेजा की इस मामले में कोई ग़लती नहीं थी और हम उनका समर्थन करते हैं."

(बीबीसी हिंदी का ऐंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप बीबीसी हिंदी से फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

संबंधित समाचार