भारत-वेस्टइंडीज के 'क्रिकेट रिश्ते ख़त्म'

ड्वेन स्मिथ, वेस्टइंडीज, क्रिकेट इमेज कॉपीरइट GETTY

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने वेस्टइंडीज़़ क्रिकेट बोर्ड से हर तरह के संबंध तोड़ने का फ़ैसला लिया है. बीसीसीआई ने यह फ़ैसला वेस्टइंडीज़ टीम के भारत दौरे को बीच में रद्द किए जाने के बाद लिया है.

बीसीसीआई की कार्यकारिणी की हैदराबाद में हुई बैठक में वेस्टइंडीज़़ क्रिकेट बोर्ड के ख़िलाफ़ कानूनी कार्रवाई करने का फ़ैसला भी लिया गया है.

हाल में भारत के दौरे पर आई वेस्टइंडीज़़ टीम ने धर्मशाला वनडे के बाद सिरीज़ छोड़ने की घोषणा की थी.

वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ियों ने वेस्टइंडीज़़ के क्रिकेट बोर्ड से वेतन भुगतान के मसले पर तनातनी के चलते ये दौरा बीच में ही छोड़ा.

टीम के खिलाड़ियों और वेस्टइंडीज़ क्रिकेट बोर्ड के बीच कांट्रैक्ट को लेकर विवाद की ख़बरें बीच-बीच में आती रहीं.

श्रीलंका के साथ सिरीज़

इमेज कॉपीरइट GETTY
Image caption श्रीलंका दौरे में महेंद्र सिंह धोनी को विश्राम दिया गया है. उनकी जगह विराट कोहली को टीम की कमान सौंपी गई है.

इस सिरीज़ की भरपाई के लिए भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने श्रीलंका का आमंत्रित किया था. श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड इसके लिए तैयार हो गया.

बीसीसीआई ने इसके लिए श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड की तारीफ़ की है. श्रीलंकाई टीम दो नवंबर को भारतीय दौरे पर आ रही है.

श्रीलंका भारत में पांच वनडे मैचों की सीरीज़ खेलेगा. बीसीसीआई ने बताया है कि दोनों देशों के बीच एकदिवसीय मुक़ाबले कटक, हैदराबाद, रांची, कोलकाता और अहमदाबाद में खेले जाएंगे.

पूरे मामले पर वरिष्ठ खेल पत्रकार विजय लोकपल्ली की राय

दौरे की शुरुआत से ही वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ी दौरा रद्द करने की धमकी देते रहे थे. बीसीसीआई के अधिकारी वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ियों को कई दिनों से मना रहे थे.

यहां तक कि धर्मशाला में बीसीसीआई के एक ख़ास पदाधिकारी को हाथ तक जोड़ने पड़े लेकिन वेस्टइंडीज़ की टीम नहीं मानी.

इमेज कॉपीरइट

वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ी शुरू से कहते रहे हैं कि वे दौरा पूरा करना चाहते हैं, लेकिन उनके क्रिकेट बोर्ड ने उनके सामने कोई रास्ता नहीं छोड़ा.

वेस्टइंडीज़ क्रिकेट बोर्ड और खिलाड़ियों के बीच पैसे को लेकर पहले से तकरार चल रही थी. खिलाड़ियों को लगा कि विरोध जताने के लिए सही समय यही है.

वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ियों का कहना है कि उनके बोर्ड को समझना होगा कि दर्शक बोर्ड को नहीं खिलाड़ियों को देखने आते हैं और उन्हीं की वजह से इस खेल में पैसा भी आता है.

बीसीसीआई ने आईपीएल में वेस्टइंडीज़़ के खिलाड़ियों के खेलने पर कोई फ़ैसला नहीं किया है. बीसीसीआई ने शुरू से ही साफ़ कर दिया था कि आईपीएल में सभी खिलाड़ी टीम के फ्रेंचाइज़ी के लिए खेलते हैं न कि अपने देश के लिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार