हॉकी: भारत की ऐतिहासिक जीत के मायने

सरदार सिंह, हॉकी, भारत इमेज कॉपीरइट Hockey India

भारतीय हॉकी टीम जब ऑस्ट्रेलिया से चार टेस्ट मैचों की सिरीज़ का पहला मैच 4-0 से हारी तो भारतीय हॉकी प्रेमियों को अधिक आश्चर्य नहीं हुआ.

अक्सर बड़ी टीमों से भारतीय टीम ऐसे स्कोर से हारती रही है. इसके बाद भारत ने वापसी करते हुए दूसरा मैच 2-1 से अपने नाम किया, तब लगा कि शायद ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरे दर्जे की टीम मैदान में उतार दी होगी.

तीसरे मैच में 1-0 की जीत और चौथे और आखिरी मैच में भी जब 3-1 से भारत ने ऑस्ट्रेलिया को हराया तो जैसे खलबली मच गई.

खेल प्रेमियों को जैसे यकीन ही नही हो रहा है कि यह वही भारतीय हॉकी टीम हैं जिसे ऑस्ट्रेलिया की टीम जब चाहे, जैसे चाहे, जहां चाहे वैसे हरा देती हो. भारतीय हॉकी के चाहने वालों के लिए यह जीत किसी चमत्कार से कम नही हैं.

चमत्कारी जीत

इमेज कॉपीरइट Hockey India

भारतीय हॉकी प्रेमियों को आज भी दिल्ली 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों का फाइनल याद हैं जब ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 8-0 से हराया था.

भारतीय हॉकी टीम ने कुछ समय पहले ही इंचियोन एशियाई खेलों में 16 साल बाद स्वर्ण पदक जीता था.

भारत की ऑस्ट्रेलिया पर इस जीत से भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान ज़फर इक़बाल भी खुशी के साथ जैसे चकित रह गए हों.

उन्होने बीबीसी हिंदी से ख़ास बातचीत में कहा, "यह चमत्कार ही है और इसे सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा. भारतीय टीम का किसी विश्व चैंपियन टीम के ख़िलाफ़ ऐसा खेल पिछले तीस सालों में तो देखा नहीं."

लगातार खेलने का फ़ायदा

इमेज कॉपीरइट Hockey India

ज़फर इक़बाल के अलावा अपने समय में दुनिया के सबसे तेज़ सेंटर फॉरवर्ड में से एक रहे पूर्व ओलंपियन हरबिंदर सिंह भी इस जीत को विशेष मानते हैं.

उनका कहना है, "टीम में यह बदलाव लगातार खेलने से आया है. इससे खिलाड़ी विरोधी टीमों की रणनीति समझने लगते हैं. इसके बाद हार के अंतर में फर्क आ जाता हैं."

इस जीत से भारतीय टीम का हौसला अब चैंपियंस ट्रॉफी के लिए भी बढ़ेगा जो भारत की मेज़बानी में ही छह से 14 दिसंबर तक भुवनेश्वर में आयोजित होगी.

इमेज कॉपीरइट HOCKEY INDIA

ज़फर इक़बाल मानते हैं कि टीम को हॉकी इंडिया लीग में विदेशी खिलाड़ियों के साथ खेलने के अनुभव का लाभ मिला है. इसके अलावा टीम के गोलकीपर पी श्रीजेश भी जीत में अहम कड़ी साबित हुए हैं.

भारतीय टीम के कप्तान सरदार सिंह रविवार को अपना 200वां अंतराष्ट्रीय मैच खेल रहे थे.

ऑस्ट्रेलिया को 3-1 से सिरीज़ में हराकर सोने पर सुहागा जैसी चमक लिए भारतीय कप्तान अपनी टीम को और कितना कामयाब बना पाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार