ईडन वनडे: क्या खाता खोल पाएगा श्रीलंका?

भारत श्रीलंका एकदिवसीय क्रिकेट मैच इमेज कॉपीरइट AP

भारत और श्रीलंका के बीच पाँच एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों की सिरीज़ का चौथा मैच कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डंस पर खेला जाएगा.

भारत पहले ही शुरुआती तीनों मैच जीतकर सिरीज़ अपने नाम कर चुका है.

इससे पहले जब वेस्टइंडीज़ के वेतन विवाद को लेकर वापस लौटने के बाद श्रीलंका ने भारत में आना स्वीकार किया तो सभी क्रिकेट पंडितों का कहना था कि यह टीम वेस्टइंडीज़ के मुक़ाबले बेहतर है.

श्रीलंकाई टीम भारत को कड़ी टक्कर देगी, लेकिन ऐसी कुछ नहीं हुआ. भारत ने नियमित कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की गैरमौजूदगी में कप्तानी कर रहे विराट कोहली की अगुआई में श्रीलंका को क्रिकेट के हर क्षेत्र में मात दी है.

विकेट कीपिंग का भार

इमेज कॉपीरइट AFP

श्रीलंकाई टीम के बल्लेबाज़ किसी भी मुक़ाबले में तीन सौ रन का आंकड़ा नहीं खड़ा कर सके.

भारत में बल्लेबाज़ो के अनुकूल पिचों पर 250 या 275 रन कोई विशेष बड़ा स्कोर नहीं होता. इसके अलावा उनकी गेंदबाज़ी में भी पैनापन नहीं है.

अगर लसित मलिंगा और रंगना हैरात जैसे गेंदबाज़ टीम में होते तो शायद बात कुछ और ही होती. अब बाक़ी बचे दोनों मैचों में भी भारत की कमान विराट कोहली ही संभालेंगे.

फॉर्म में चल रहे सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन, विकेट कीपर रिद्धिमान साहा, तेज़ गेंदबाज़ ईशांत शर्मा और हरफनमौला रवींद्र जडेजा भी अब टीम में शामिल नहीं हैं.

अब रोहित शर्मा अपना दमख़म दिखाएंगे. विकेट कीपिंग का भार रॉबिन उथप्पा उठाएंगे.

रन से भरपूर

इमेज कॉपीरइट PTI

रोहित शर्मा को दिए गए अवसर को लेकर भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ आकाश चोपड़ा मानते हैं कि अब हर खिलाड़ी को अवसर तो देना ही होगा. वैसे भी यह श्रीलंका की ऐसी टीम है जिसके ख़िलाफ रन बनाना मुश्किल नहीं है.

आकाश चोपड़ा कहते हैं, "यह एक क्लब लेवल की गेंदबाज़ी वाली टीम है, पिच रन से भरपूर है. अगर भारत पहले बल्लेबाज़ी करे तो हर बार 350-350 रन बनाए. अब जब टीम ऐसी हो तो केवल एक खिलाड़ी ही रन बनाता रहे, यह ठीक नहीं है."

उनके अनुसार, "इसके अलावा इससे यह भी पता चलेगा कि ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ टेस्ट सिरीज़ का हिस्सा बनने जा रहे रोहित शर्मा कितने फिट हैं और कितनी फॉर्म में हैं. यह एक तरह से विश्व कप से पहले का ट्रायल है कि खेलिए और अपना पक्ष मज़बूत कीजिए."

जीत का रथ

इमेज कॉपीरइट Getty

दूसरी तरफ भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ अतुल वासन मानते हैं कि भारत को भारत में एकदिवसीय क्रिकेट में बहुत कम टीमें टक्कर दे सकती हैं.

वह कहते हैं, "श्रीलंका की यह टीम तो वैसे भी आधे-अधूरे मन से खेल रही है. इसके ख़िलाफ़ रनों के रिकॉर्ड का कोई महत्व नहीं है. यहां तक कि टीम के अनुभवी खिलाड़ी कुमार संगकारा, महेला जयवर्धने और तिलकरत्ने दिलशान अपनी टीम को अच्छे प्रदर्शन की प्रेरणा देने में नाकाम रहे हैं."

अब देखना है कि कोलकाता में दर्शकों की भीड़ श्रीलंका में कितना जोश भरती है जबकि भारत तो जीत के रथ पर सवार है ही.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार