खुला मंगल के 5 किमी ऊंचे पर्वत का राज़ !

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

नासा के क्यूरियॉसिटी रोवर पर काम कर रहे वैज्ञानिकों का मानना है कि उन्होंने मंगल ग्रह के गेल क्षेत्र में उस हिस्से पर विशाल पर्वत होने की पहेली को सुलझा लिया है जहां ये रोबोट उतरा.

उनका मानना है कि ये पर्वत करोड़ों वर्षों की अवधि के दौरान एक के बाद एक बनी झीलों के रेत और अन्य तलछट के अवशेषों का बना हो सकता है.

बाद में आसपास के मैदान में मिट्टी हवा के ज़रिए उड़ गई और इस तरह पांच किलोमीटर ऊंची चोटी अस्तित्व में आई जो आज हमें दिखती है.

अगर ये बात सच निकलती है तो ये मंगल ग्रह की प्राचीन जलवायु को लेकर एक बड़ी जानकारी होगी.

इसका मतलब ये होगा कि दुनिया पहले दो अरब सालों के दौरान उससे कहीं ज्यादा गर्म और नम रही होगी जितना कि पहले माना जाता था.

क्यूरियॉसिटी की टीम का कहना है कि प्राचीन मंगल पर इस तरह की नम परिस्थितियों को बरक़रार रखने के लिए ख़ूब बारिश और बर्फ़बारी होती होगी.

'बढ़ेगी दिलचस्पी'

इससे जुड़ी एक रोचक संभावना ये भी नज़र आती है कि मंगल के धरातल पर कहीं कोई सागर भी रहा होगा.

इमेज कॉपीरइट ESA

क्यूरियॉसिटी अभियान से डिप्टी प्रोजेक्ट साइंटिस्ट डॉ. अश्विन वासावादा का कहना है, "अगर वहां करोड़ों सालों तक झील रही है, तो पर्यावरणीय नमी के लिए सागर जैसे पानी के स्थायी भंडार का होना जरूरी है."

दशकों से शोधकर्ता अटकलें लगाते रहे हैं कि मंगल ग्रह के शुरुआती इतिहास में उत्तरी मैदानी इलाकों में एक बड़ा सागर अस्तित्व में रहा होगा.

रोवर की तरफ से दी गई ताजा जानकारी के बाद इस विषय में दिलचस्पी और जिज्ञासा बढ़ना तय है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)