चैंपियंस ट्रॉफ़ी: पांच बार के चैंपियन को कांस्य मिला

चैंपियनशिप ट्रॉफ़ी इमेज कॉपीरइट Getty

भुवनेश्वर में अपनी ही मेज़बानी में खेलते हुए भारतीय हॉकी टीम चैंपियंस ट्रॉफी में चौथे स्थान पर रही.

तीसरे स्थान के लिए हुए कांस्य पदक के मुक़ाबले में भारत और ऑस्ट्रेलिया आमने-सामने थे.

भारत को ऑस्ट्रेलिया ने 2-1 से हराकर उसकी मायूसी को और भी बढ़ा दिया.

इससे पहले भारत ने पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया को उसी की ज़मीन पर हॉकी टेस्ट सिरीज़ में 3-1 से हराया था.

उसके बाद भारतीय टीम से बेहद उम्मीदे बंधी थीं, पर अब लगता है कि अभी भी भारत को सुधार के लिए लम्बा रास्ता तय करना है.

कांस्य से संतोष

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ऑस्ट्रेलिया चैंपियंस ट्रॉफ़ी में पांच बार चैंपियन रह चुका है.

ऑस्ट्रेलिया के लिए ट्रिस्टेन व्हाइट और मैट गौडेस ने गोल किए, जबकि भारत के लिए एकमात्र गोल ललित उपाध्याय ने किया.

भारत ने चैंपियंस ट्रॉफी में केवल एक बार साल 1982 में कांस्य पदक जीता था.

ऑस्ट्रेलिया के लिए भी चैंपियंस ट्राफी का इस बार का अनुभव अच्छा नहीं रहा.

पिछली पांच बार की चैंपियंस ट्राफी विजेता और मौजूद विश्व चैंपियन टीम को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार