भारत-इंग्लैंड मैच में दिल थामकर बैठें !

धोनी, इयोन मॉर्गन इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption भारत और इंग्लैंड के बीच 30 जनवरी को पर्थ में महत्वपूर्ण मैच है.

ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई भारतीय क्रिकेट टीम त्रिकोणीय सिरीज़ में अब भी अपनी पहली जीत का इंतज़ार कर रही है.

सोमवार को सिरीज़ का पांचवा मैच भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया पर फिर बारिश की भेंट चढ़ गया.

कुदरत की मेहरबानी से भारत और ऑस्ट्रेलिया को दो-दो अंक मिले.

(पढ़ेंः 'ह्यूज की मौत के बाद भी जारी है स्लेजिंग')

अब भारत और इंग्लैंड के बीच 30 जनवरी को पर्थ में फाइनल में पहुंचने के लिए अहम मुक़ाबला होगा. लेकिन कप्तान धोनी की मुश्किलें क्यों बढ़ गई हैं?

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट PA

अब भारत पर उस मैच को बोनस अंक और बेहतर रन औसत से जीतने का दबाव नहीं होगा. अगर भारत जीता तो सीधे-साधे छह अंको के साथ फाइनल में जगह बना लेगा.

लेकिन टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की चिंता कम नही हुई है.

(पढ़ेंः जो नहीं कर सके सचिन और द्रविड़)

सोमवार को सलामी बल्लेबाज़ धवन फ़ॉर्म के शिखर को पाने में नाकाम रहे और केवल आठ रन बनाकर मिचेल स्टार्क का शिकार बने.

इसके अलावा ख़बरें ऐसी भी हैं कि ड्रेसिंग रूम में धोनी और विराट कोहली के संबध ठीक नही हैं, ख़ासकर नम्बर चार पर बल्लेबाज़ी को लेकर.

चोटिल रोहित

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रोहित शर्मा चोटिल होने की वजह से नहीं खेल पाएंगे.

दूसरी ओर रवींद्र जडेजा और ईशांत शर्मा कितने मैच फिट हैं, इसका पता भी नही चला. और क्या भारत में इंग्लैंड को हराने का दम है?

जाने-माने क्रिकेट समीक्षक और कमेंटेटर अयाज़ मेमन कहते हैं, "जब टीम ऑस्ट्रेलिया गई थी तब धवन बेहतरीन फ़ॉर्म में थे लेकिन टेस्ट सिरीज़ में वो नाकाम रहे."

(पढ़ेंः कोहली ने दोहराया करिश्मा)

उन्होंने कहा, " शिखर टेस्ट टीम में अपनी जगह खो चुके हैं. अब एकदिवसीय क्रिकेट में भी उनका बल्ला ख़ामोश है. ऑस्ट्रेलिया की पिच भारत जैसी नही है."

मेमन बताते हैं, "वहां दो विकेट शुरू में गिरने से मिडिल ऑर्डर पर दबाव बन जाता है. ऊपर से रोहित शर्मा चोटिल हैं. इसके अलावा गेंदबाज़ी कमज़ोर है."

अच्छी शुरुआत

इमेज कॉपीरइट AFP

अयाज मेमन का मानना है कि इन सब बातों ने कप्तान धोनी और कोच डंकन फ्लेचर की रणनितियों पर सवाल खड़े कर दिए हैं.

धोनी और विराट के बीच अनबन की ख़बरों को लेकर अयाज़ मेमन ने बताया कि कुछ दिनों पहले जब टीम के टेक्नीकल डायरेक्टर रवि शास्त्री भारत आए तो उनसे बातचीत हुई.

(पढ़ेंः वर्ल्ड कप की टीम, कितनी सही?)

मेमन कहते हैं, "रवि शास्त्री ने कहा कि यह सब फिल्मी कहानी है. जहां तक कोहली के चार नम्बर पर बल्लेबाज़ी का सवाल है तो उसकी वजह अच्छी शुरूआत ना मिलना है."

रवि शास्त्री से हुई बातचीत के हवाले से मेमन ने बताया, "टीम की सोच है कि चार नम्बर पर आकर कोहली टीम को संभाल सकते हैं. वह इस समय टीम के सबसे बेहतरीन और फॉर्म के साथ खेल रहे बल्लेबाज़ हैं."

भारत के खिलाफ

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इंग्लैंड के क्रिकेटर इयान बेल.

मेमन ने कहा, "अगर तीन नम्बर पर आकर वह भी जल्दी आउट हो गए तब टीम पर और अधिक दबाव होगा. यह अब तक की सोच है, आगे विश्व कप में क्या होगा, देखना होगा."

उन्होंने बताया, "अगर रवींद्र जडेजा पूरी तरह फिट हो जाते हैं तो मिडिल ऑर्डर की समस्या समाप्त हो जाएगी. रही बात इंग्लैंड से मुक़ाबले कि तो सब उन्हें कमज़ोर समझ रहे थे लेकिन वो ग़लत साबित हुए."

वे कहते हैं, "इंग्लैंड को सलामी बल्लेबाज़ मोइन अली और इयान बेल अच्छी शुरूआत दे रहे हैं. साथ ही तेज़ गेंदबाज़ फिन और एंडरसन भी भारत के ख़िलाफ कामयाब रहे थे."

ऐसे में भारत और इंग्लैंड का मुक़ाबला दिल थामकर देखना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार