भारत कायम रख सकेगा पाकिस्तान पर दबदबा

भारतीय टीम (फ़ाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट Getty

मौजूदा चैंपियन भारत रविवार को एडिलेड में अपने परंपरागत प्रतिद्वंदी पाकिस्तान के ख़िलाफ़ मुक़ाबले से विश्व कप में अपने अभियान की शुरुआत करेगा.

विश्व कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ भारत का रिकॉर्ड अपराजेय रहने का रहा है.

अब तक हुई पांच भिड़ंत में हर बार भारत ने पाकिस्तान को पटखनी दी है.

आइए नज़र डालते हैं, उन रोमांचक मुक़ाबलों पर

विश्व कप 1992

इमेज कॉपीरइट Getty

तारीख़: 4 मार्च 1992, मैदान: सिडनी, मैन ऑफ़ द मैच: सचिन तेंदुलकर

भारत का नेतृत्व कर रहे थे मोहम्मद अज़हरुद्दीन और पाकिस्तान की कमान इमरान ख़ान के हाथों में थी. टॉस भारत ने जीता और पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया.

इस मैच के हीरो रहे अपना पहला विश्व कप खेल रहे सचिन तेंदुलकर. सचिन ने पाकिस्तान की पेस बैटरी का जमकर सामना किया और 54 रन बनाकर नाबाद रहे. भारत ने 49 ओवर में 7 विकेट 216 रन बनाए.

पाकिस्तान के मज़बूत बल्लेबाज़ी क्रम को देखते हुए ये लक्ष्य आसान लग रहा था, लेकिन आमिर सुहैल (62) और जावेद मियांदाद (40) को छोड़ कोई भी बल्लेबाज़ क्रीज पर डटने का साहस नहीं दिखा सका और पाकिस्तान की पूरी टीम 49.1 ओवर में 173 रन पर सिमट गई.

भारत ये मुक़ाबला 43 रन से जीत गया.

विश्व कप 1996

तारीख़: 9 मार्च 1996, मैदान: बेंगलुरू, मैन ऑफ़ द मैच: नवजोत सिंह सिद्धू

पाकिस्तान की टीम भारत की ज़मीन पर लगभग सात साल बाद खेल रही थी. भारतीय टीम की अगुवाई एक बार फिर अज़रुद्दीन कर रहे थे, जबकि पाकिस्तान के कप्तान के आमिर सुहैल.

टॉस भारत ने जीता और पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया. इस मैच के नायक रहे नवज़ोत सिंह सिद्धू. सिद्धू ने 93 रन की पारी खेली. आखिरी के ओवरों में अजय जडेजा ने आतिशी बल्लेबाज़ी की और 25 गेंदों पर 45 रन बनाए. भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में 8 विकेट पर 287 रन बनाए.

पाकिस्तान तो मानो इस लक्ष्य को बौना साबित करने पर आमादा था. सुहैल और अनवर आक्रामक अंदाज़ दिखाए और बिना विकेट खोए स्कोर 84 रन तक ले गए.

इस दौरान वेंकटेश प्रसाद और सुहैल ने इशारों-इशारों में एक-दूसरे को बहुत कुछ कहा. लेकिन यही आक्रामकता पाकिस्तान की हार का कारण भी बनी और सुहैल और अनवर के आउट होते ही नियमित अंतराल पर उसके विकेट गिरते रहे.

पाकिस्तान 9 विकेट पर 248 रन की बना सका और 39 रन से मैच गंवा बैठा.

विश्व कप 1999

इमेज कॉपीरइट Associated Press Archive

तारीख़: 8 जून 1999, मैदान: ओल्ड ट्रेफ़र्ड मैनचेस्टर, मैन ऑफ़ द मैच: वेंकटेश प्रसाद

विश्व कप में लगातार तीसरी बार अज़हरुद्दीन भारत का नेतृत्व कर रहे थे और एक बार फिर उन्होंने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी चुनी.

सचिन तेंदुलकर (45), राहुल द्रविड़ (61) और अज़हर (59) की पारियों की बदौलत भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में 6 विकेट पर 227 का स्कोर खड़ा किया.

लक्ष्य का पीछा करने के मामले में पाकिस्तान फिर कमज़ोर साबित हुआ और वेंकटेश प्रसाद (27 रन देकर 5 विकेट) की घातक गेंदबाज़ी से उसकी पूरी टीम 45.3 ओवरों में 180 रन पर सिमट गई. भारत ने मैच 47 रन से जीत लिया.

विश्व कप 2003

इमेज कॉपीरइट AFP

तारीख़: 1 मार्च 2003, मैदान: सेंचुरियन, मैन ऑफ़ द मैच: सचिन तेंदुलकर

विश्व कप में चार साल बाद दोनों परंपरागत प्रतिद्वंद्वी एक बार फिर आमने-सामने थे. कप्तान बदल चुके थे. भारत का नेतृत्व सौरभ गांगुली कर रहे थे और पाकिस्तान की कमान थी वक़ार यूनुस के हाथों में.

इस बार सिक्के की उछाल पाकिस्तान के पक्ष में गई और उसने पहले बल्लेबाज़ी चुनी. सईद अनवर (101) की पारी की बदौलत पाकिस्तान ने भारत के सामने जीत के लिए 274 रन का चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रखा.

भारत ने आक्रामक शुरुआत की. वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर ने शुरू में ही रावलपिंडी एक्सप्रेस शोएब अख़्तर को निशाना बनाया.

इमेज कॉपीरइट AFP

सचिन का अख़्तर की गेंद को कवर के ऊपर से दर्शक दीर्घा में भेजने का मंजर आज भी क्रिकेटप्रेमियों की याद में ताज़ा है. सचिन ने (98) और युवराज की हाफ़ सेंचुरी के बूते भारत ने मैच 26 गेंद शेष रहते ही 6 विकेट से जीत लिया.

विश्व कप 2011

इमेज कॉपीरइट Associated Press Archive

तारीख़: 30 मार्च 2011, मैदान: मोहाली, मैन ऑफ़ द मैच: सचिन तेंदुलकर

भारत और पाकिस्तान के बीच यह मुक़ाबला सेमीफ़ाइनल का था. टॉस कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने जीता और पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया. तेंदुलकर (85) और सहवाग (38) ने भारत को अच्छी शुरुआत दी.

सचिन भाग्यशाली रहे और पारी के दौरान उन्हें पाँच जीवनदान मिले. भारत ने 50 ओवरों में 9 विकेट पर 260 रन का स्कोर खड़ा किया.

शाहिद आफ़रीदी के नेतृत्व में खेल रही पाकिस्तानी टीम कोई भी बड़ी साझेदारी नहीं कर सकी. मिस्बाह उल हक़ (56) और मोहम्मद हफ़ीज़ (43) को छोड़ कोई भी बल्लेबाज़ बड़ी पारियां नहीं खेल सका.

पाकिस्तान की पूरी टीम 49.5 ओवरों में 231 रन ही जुटा सकी. भारत ने मैच 29 रन से जीत लिया और विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ़ अपराजित रहने का रिकॉर्ड कायम रखा.

(यदि आप बीबीसी हिन्दी का एंड्रॉएड ऐप देखना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें. सोशल मीडिया जैसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी आप हमें फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार