ऑस्ट्रेलिया का रथ रोक पाएगा इंग्लैंड?

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज़ डेविड वार्नर. इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज़ डेविड वार्नर.

विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के पूल-ए में शनिवार को मेलबर्न में मेज़बान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड आमने-सामने होंगे.

पिछले दिनों जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया ने कई उतार-चढ़ाव के बावजूद मैदान पर ज़बर्दस्त खेल दिखाया है उसे देखते हुए इंग्लैंड को जीत के लिए एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाना होगा.

ऑस्ट्रेलिया ने इससे पहले खेले गए अभ्यास मैचों में दमदार खेल दिखाया था लेकिन इंग्लैंड त्रिकोणीय सिरीज़ को भी नहीं भूला होगा.

ऑस्ट्रेलिया ने फ़ाइनल में इंग्लैंड को 112 रनों से करारी मात दी थी.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इग्लैंड क्रिकेट टीम के बल्लेबाज़ इयान बेल.

त्रिकोणीय सिरीज़ में भारत भी खेल रहा था जहां इंग्लैंड ने भारत को दोनों लीग मुक़ाबलों में मात दी थी. इसके बावजूद इंग्लैंड की दाल ऑस्ट्रेलिया के सामने नहीं गली.

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को पहले मैच में तीन विकेट से और दूसरे मैच में भी इसी अंतर से हराया था. ज़ाहिर है कि पिछली तीन जीत ऑस्ट्रेलिया का हौसला बढ़ाने के लिए काफ़ी है.

वैसे इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के माइकल क्लार्क नहीं खेलेंगे. इसके बावजूद ऑस्ट्रेलिया की ताक़त कम नहीं हैं. उनके सलामी बल्लेबाज़ डेविड वार्नर बेहद शानदार फ़ॉर्म में हैं.

शतकीय पारी

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम के धुरंधर बल्लेबाज़ स्टीव स्मिथ.

त्रिकोणीय सिरीज़ में इंग्लैंड के कप्तान इयान मोर्गन ने सिडनी में 121 रनों की शानदार पारी खेली लेकिन जवाब में डेविड वार्नर ने 127 रनों की पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उसके बाद होबार्ट में इंग्लैंड के इयान बेल ने 141 रनों की शतकीय पारी खेली. इंग्लैंड ने आठ विकेट पर 303 रन बनाए.

लेकिन ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने नाबाद 102 रन बनाकर केवल एक गेंद पहले टीम को तीन विकेट से जीत दिला दी.

डेविड वार्नर, स्टीव स्मिथ, कप्तान जॉर्ज बैली, ग्लेन मैक्सवैल, फ़ॉकनर और ब्रैड हैडिन के दम पर ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाज़ी मज़बूत है.

निरंतरता की कमी

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज़ मिचेल जॉनसन.

गेंदबाज़ी में भी मिचेल जॉनसन के फ़िट होकर वापस आने से नई जान आई है. जोश हैज़लवुड और मिचेल स्टार्क भी कम नहीं हैं.

दूसरी तरफ इंग्लैंड के मोइन अली सलामी बल्लेबाज़ के रूप में इन दिनों चमक रहे हैं लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों में निरंतरता की कमी है.

गेंदबाज़ी में जेम्स एंडरसन, क्रिस वोक्स, फिन और ब्रॉड की चौकड़ी अपनी तेज़ी से ऑस्ट्रेलिया को परेशानी में डालने का दम-ख़म रखती है.

इसके बावजूद ऑस्ट्रेलिया इस विश्व कप की सबसे संतुलित टीम है. इंग्लैंड अपनी ही ज़मीन पर भारत के ख़िलाफ़ भी एकदिवसीय सिरीज़ हारी थी.

जीत का रथ

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इंग्लैंड क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज़ स्टुअर्ट ब्रॉड.

इंग्लैंड ने मेलबर्न में अपने पिछले 11 में से आठ मैच हारे हैं. पिछली बार वो साल 2007 में जीते थे. आंकड़े भी ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में हैं.

चार बार विश्व कप का ख़िताब अपने नाम कर चुकी ऑस्ट्रेलियाई टीम पिछले 12 मैचों में से केवल एक में हारी है.

ऐसे में इंग्लैंड के लिए ऑस्ट्रेलिया के जीत के रथ को रोकना मुश्किल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार