पाकिस्तान पर भारत की 'सबसे बड़ी जीत'

विराट कोहली इमेज कॉपीरइट REUTERS

एडिलेड में हाईवोल्टेज मुक़ाबले में भारत ने पाकिस्तान को 76 रन से हरा दिया और विश्व कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अजेय रहने के अपने रिकॉर्ड को कायम रखा.

विश्व कप में भारत और पाकिस्तान की टीमें अब तक कुल मिलाकर छह बार आमने-सामने हुई हैं और हर बार बाज़ी भारत के हाथ लगी है.

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में सात विकेट पर 300 रन बनाए. जवाब में पाकिस्तान की पूरी टीम 47 ओवरों में 224 के स्कोर पर सिमट गई.

विश्व कप में रनों के लिहाज़ से ये पाकिस्तान पर भारत की सबसे बड़ी जीत है.

इमेज कॉपीरइट Getty

भारत के लिए विराट कोहली (107) ने शानदार शतकीय पारी खेली. उन्हें 'मैन ऑफ़ द मैच' के ख़िताब से नवाज़ा गया.

ग्रुप बी के इस मुक़ाबले में इस जीत से भारत को दो अंक मिले हैं, जबकि पाकिस्तान को कोई अंक नहीं मिला.

मोहम्मद शमी ने पाकिस्तान के तीन बल्लेबाज़ों को आउट किया, जबकि उमेश यादव और मोहित शर्मा ने दो-दो विकेट लिए.

भारतीय पारी

इमेज कॉपीरइट Getty

इससे पहले शिखर धवन और रोहित शर्मा का सलामी जोड़ी ने सधी शुरुआत की और गेंदों को उनकी मेरिट पर खेलना शुरू किया.

ऐसा लग रहा था कि रोहित एक बार फिर लंबी पारी की ओर बढ़ रहे हैं, लेकिन आठवें ओवर में वह अपना धैर्य खो बैठे.

सोहेल ख़ान की गेंद को उन्होंने पुल करने का प्रयास किया, लेकिन गेंद बल्ले के बीचों-बीच नहीं आई और हवा में काफी ऊंची गई इस गेंद को लपकने में कप्तान मिस्बाह उल हक़ ने कई गलती नहीं की.

इसके बाद कोहली को बल्लेबाज़ी क्रम में प्रोन्नत कर तीसरे नंबर पर भेजा गया और धोनी का यह फ़ैसला सही साबित हुआ.

कोहली ने धवन के साथ मिलकर दूसरे विकेट के लिए शतकीय साझेदारी बनाई.

धवन के रन आउट होने के बाद कोहली की रन गति कुछ धीमी पड़ी, लेकिन सुरेश रैना के साथ धीमे-धीमे ही सही भारत के स्कोर में इजाफ़ा करते रहे.

43वें ओवर में विराट कोहली ने अफ़रीदी की गेंद को लॉन्ग ऑन की तरफ़ खेलकर एक रन लिया और अपने वनडे करियर का 22वाँ शतक लगाया.

इमेज कॉपीरइट AP

विश्व कप के इतिहास में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ किसी भी भारतीय खिलाड़ी का यह पहला शतक है.

कोहली ने 119 गेंदों पर 7 चौकों की मदद से अपना शतक पूरा किया.

इसी ओवर में रैना ने छक्का लगाया और फिर एक रन लेकर अपनी हाफ़ सेंचुरी पूरी की.

44वें ओवर में रैना ने सोहेल ख़ान की तीन गेंदों पर लगातार तीन चौके जड़कर रनों की रफ़्तार बढ़ाई.

रैना ने 56 गेंदों पर 74 रन की तूफ़ानी पारी खेली. उन्होंने पारी के दौरान 5 चौके और तीन छक्के भी जड़े.

इमेज कॉपीरइट REUTRES

लेकिन इसके बाद तो जैसे विकेटों की झड़ी ही लग गई. आख़िरी के पाँच ओवरों में भारतीय बल्लेबाज़ सिर्फ़ 27 रन ही बना सके और इस दौरान पाँच बल्लेबाज़ पैवेलियन लौटे.

पाकिस्तान के लिए सोहेल ख़ान सबसे सफल गेंदबाज रहे. उन्होंने 10 ओवर में 55 रन देकर भारत के पांच बल्लेबाजों को पैवेलियन की राह दिखाई.

पाकिस्तान पारी

इमेज कॉपीरइट Getty

मिस्बाह उल हक़ ने मध्य क्रम के बल्लेबाज़ यूनुस ख़ान को ओपनिंग के लिए भेजा, लेकिन उनका ये दांव गलत साबित हुआ.

11 रन के योग पर यूनुस छह रन बनाकर पैवेलियन चलते बने. शमी ने उन्हें विकेट के पीछे धोनी के हाथों कैच कराया.

इसके बाद अहमद शहज़ाद और हैरिस सोहेल के बीच दूसरे विकेट के लिए 68 रनों की साझेदारी हुई, लेकिन हैरिस के आउट होने के बाद नियमित अंतराल पर पाकिस्तान के विकेट गिरते रहे और भारतीय टीम और उसके प्रशंसक इसका जश्न मनाते रहे.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत और जीत के बीच पाकिस्तान के कप्तान मिस्बाह उल हक़ थे और उन्होंने कई मर्तबा भारतीय गेंदबाजों को सीमा रेखा के पार भेजकर अपने इरादे भी जताए.

दूसरे छोर पर कोई भी बल्लेबाज़ उनका साथ देने का साहस नहीं जुटा सका. मिस्बाह को 46वें ओवर में शमी ने रहाणे के हाथों कैच कराया.

मिस्बाह ने 84 गेंदों पर नौ चौकों और एक छक्के की मदद से 76 रन की पारी खेली.

इसके बाद तो भारत की जीत महज औपचारिकता बन गई और सात गेंद बाद ही सोहेल ख़ान का विकेट गिरने के साथ ही भारत की जीत पर मुहर लग गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार