डालमिया: दूसरी पारी में क्या हैं चुनौतियां

डालमिया इमेज कॉपीरइट PTI

विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के भारत के दबदबे के बीच जगमोहन डालमिया की एक दशक के बाद का बीसीसीआई के अध्यक्ष के तौर पर वापसी हो गई.

दरअसल अध्यक्ष पद के लिए केवल बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष जगमोहन डालमिया ने ही नामांकन दाखिल किया था.

उल्लेखनीय है कि आईपीएल-6 में हुई कथित सट्टेबाज़ी और स्पॉट फिक्सिंग मामले में मुद्गल समिति की जांच के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एन श्रीनिवासन को अध्यक्ष पद छोड़ना पड़ा और बीसीसीआई के नए चुनाव करवाने पड़े.

अनुभवी

इमेज कॉपीरइट AFP

जगमोहन डालमिया को अध्यक्ष पद की अपनी दावेदारी में ईस्ट ज़ोन की छह इकाइयों से मिले समर्थन से मज़बूती मिली.

वैसे भी जगमोहन डालमिया बीसीसीआई के पुराने धुरंधर हैं.

वह साल 2001 से साल 2004 तक बीसीसीआई के अध्यक्ष रहे हैं तो 1997 से तीन साल के लिए आईसीसी अध्यक्ष भी.

चुनौतियां

डालमिया की वापसी के क्या मायने हैं? उनके सामने फिलहाल सबसे बड़ी चुनौती क्या हैं?

क्रिकेट समीक्षक विजय लोकपल्ली कहते हैं कि इस चुनाव को एक तरह का समझौता समझा जाना चाहिए. पहले कहा जा रहा कि शरद पवार या संजय पटेल भी अध्यक्ष पद के लिए खड़े हो सकते हैं.

इसके बावजूद जगमोहन डालमिया की वापसी आश्चर्यजनक नहीं हैं क्योंकि पिछले साल जब हालात खराब थे, तब भी वो अंतरिम अध्यक्ष थे.

अनुभवी होने के अलावा वह शायद ऐसे शख़्स हैं जो सभी को मान्य हैं.

इमेज कॉपीरइट IPL

बीसीसीआई की मुश्किल यह है कि उनके पास आज पहले जैसे अनुभवी लोग ही नहीं है जो मौजूदा मुश्किल हालात का सामना कर सकें.

लोकपल्ली के अऩुसार डालमिया की सबसे बड़ी चुनौती यह है कि वह बीसीसीआई को एक परिवार के रूप में जोड़ कर रखें.

पहले रोटेशन प्रणाली के तहत पद मिल जाता था. चुनाव से लगता हैं जैसे पदाधिकारी बनने की होड़ लगी है.

लेकिन डालमिया के सामने फिलहाल सबसे बड़ी चुनौती तो आईपीएल है. इसके अलावा वह सुप्रीम कोर्ट की बनाई समिति की रिपोर्ट आने के बाद क्या करते हैं- इस पर दो टीमों का भविष्य दांव पर है.

कभी भारतीय क्रिकेट को पैसे से मालामाल करने वाले जगमोहन डालमिया ख़ुद बीसीसीआई में पैसे के दुरुपयोग के मामलों का सामना कर चुके हैं. हालांकि बाद में वह सारे आरोप निराधार साबित हुए.

अब देखना हैं कि अपनी दूसरी पारी में वह कैसा प्रदर्शन करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार