विराट और धवन के गुरूओं को क्या उम्मीद?

विराट कोहली और शिखर धवन, क्रिकेट, भारत इमेज कॉपीरइट AFP

विश्व कप सेमीफ़ाइनल में गुरुवार को भारत और ऑस्ट्रेलिया आमने-सामने हैं.

ऑस्ट्रेलिया अब तक चार बार और भारत दो बार विश्व कप जीत चुका है.

ऑस्ट्रेलिया के पास घरेलू मैदान का लाभ है तो भारत को हर मैच में भारी संख्या में पहुँच रहे भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों से मिलने वाला नैतिक सहयोग है.

आइए जानते हैं भारत के कुछ क्रिकेट कोच खिलाड़ियों की खूबियों और ख़ामियों के बारे में क्या कहते हैं.

विराट के कोच

इमेज कॉपीरइट Reuters

पूर्व रणजी ट्रॉफ़ी खिलाड़ी और विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा मानते हैं कि भारत की टीम पर थोड़ा दबाव होगा क्योंकि वो ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट और त्रिकोणीय वनडे सिरीज़ में हारी है.

हालांकि वो मानते हैं कि विश्व कप में भारत नई रंगत में है और ऑस्ट्रेलिया के ऊपर घरेलू मैदान होने का दबाव होगा.

शर्मा मानते हैं कि विराट कोहली विपरीत परिस्थियों में शानदार प्रदर्शन करते हैं.

शर्मा कहते हैं, "विराट कोहली बड़े मैच के बड़े प्लेयर हैं. चूंकि ऑस्ट्रेलिया एक बड़ी टीम है इसलिए वो उसके हिसाब से तैयारी करते हैं. मुझे उम्मीद है कि कल वो टीम की आशाओं पर खरे उतरेंगे."

शर्मा मानते हैं कि सिडनी ऑस्ट्रेलिया के उन गिने चुने विकेट में से है जहाँ स्पिनरों को मदद मिलती है.

ऐसे में भारत के स्पिनरों को इसका लाभ मिल सकता है जिन्होंने अभी तक सराहनीय गेंदबाज़ी की है. जबकि ऑस्ट्रेलिया के पास भारत जैसे फिरकी गेंदबाज़ नहीं है.

शिखर के कोच

इमेज कॉपीरइट AP

मदन शर्मा शिखर धवन के कोच हैं. धवन ऑस्ट्रेलिया की सिरीज़ में कुछ ख़ास प्रदर्शन नहीं कर पाए थे लेकिन विश्व कप शुरू होते ही वो फॉर्म में वापस आ गए.

मदन शर्मा मानते हैं कि धवन में काफ़ी आत्मविश्वास है साथ ही एमएस धोनी और रवि शास्त्री ने जिस तरह उनपर भरोसा दिखाया उसका भी उन्हें लाभ मिला.

धवन विश्व कप में अब तक दो शतक बना चुके हैं. धवन टेस्ट सिरीज़ में ऑफ़ स्टम्प पर जाती गेंदों पर ही अधिकतर आउट हुए थे.

इस पर शर्मा कहते हैं, "वो भले ही ऐसी गेंदों पर आउट हुए हों लेकिन उनका मज़बूत एरिया भी वही है. उन्होंने सबसे अधिक रन यहीं बनाए हैं."

धवन की सबसे बड़ी ताक़त क्या है, पूछने पर शर्मा ने कहा, "उनकी सबसे बड़ी ताक़त है कि वो बहुत ही फ़ोकस प्लेयर हैं. वो ये कभी नहीं सोचते कि फलां बॉलर मुझे आउट कर सकता है. वो हमेशा अपना नेचुरल गेम खेलते हैं."

विजय दहिया

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

भारत के पूर्व विकेट कीपर बल्लेबाज़ विजय दहिया दिल्ली की रणजी टीम के कोच और कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम के सहायक कोच हैं.

दहिया दिल्ली रणजी टीम में शिखर धवन को कोचिंग दे चुके हैं. वो कोलकता नाइट राइडर्स की टीम के लिए खेलने वाले मोहम्मद शमी और उमेश यादव को भी नज़दीक से देख चुके हैं.

दहिया कहते हैं, "उमेश यादव जिस रफ़्तार से गेंदबाज़ी कर रहे हैं उसे देखकर हम आश्चर्यचकित नहीं हैं. हम उन्हें हमेशा ही ऐसी गेंदबाज़ी करते हुए देखते रहे हैं."

दहिया के अनुसार तेज़ गेंदबाज़ों के शुरुआती विकेट निकालने से स्पिनरों को भी मदद मिली है और वो विकेट चटकाने में सफल रहे हैं.

अभी तक विश्व कप में भारत के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले मोहम्मद शमी की तारीफ़ करते हुए दहिया कहते हैं कि शमी नियमित रफ़्तार से सधी लाइन-लेंग्थ के साथ गेंदबाज़ी कर रहे हैं जो विपक्षी बल्लेबाज़ों के लिए सिरदर्द साबित हुई है.

रहाणे के कोच

इमेज कॉपीरइट AP

भारत के पूर्व बल्लेबाज़ लालचंद राजपूत अजिंक्य रहाणे के कोच हैं.

राजपूत मानते हैं कि भारतीय टीम ने अबतक सभी क्षेत्रों में बढ़िया खेल दिखाया है और खिलाड़ियों में इस वक़्त काफ़ी आत्मविश्वास है.

टेस्ट सिरीज़ के बाद विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन करने वाले अजिंक्य रहाणे के बारे में राजपूत कहते हैं, "रहाणे भारतीय टीम के एक बहुत ही महत्वपूर्ण खिलाड़ी हैं. उनकी टेकनिक काफ़ी अच्छी है. वो ज़रूरत के हिसाब से तेज़ भी खेल सकते हैं और वक़्त आने पर विकेट पर टिककर भी खेल सकते हैं."

राजपूत मानते हैं कि रहाणे का किसी भी परिस्थिति में शांत और संयमित रहना उनकी सफलता का मुख्य कारण है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार