भारत की हार के 5 कारण

ऑस्ट्रेलिया टीम इमेज कॉपीरइट AFP

सेमी फ़ाइनल में भारत की टीम हारकर विश्व कप से बाहर हो गई है. ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम को उसी की धरती पर मात देना इतना आसान नहीं था. लेकिन भारत की टीम पहले गेंदबाज़ी और फिर बल्लेबाज़ी में पिट गई.

आइए नज़र डालते हैं उन पाँच कारणों पर जो भारत की हार की प्रमुख वजह बनी.

वो पांच कारण जानें

1. टॉस

इमेज कॉपीरइट AFP

जानकार पहले से ही ये कह रहे थे कि सिडनी की पिच पर टॉस जीतना काफ़ी अहम है. ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया.

भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी कहा कि टॉस जीतकर वे बल्लेबाज़ी ही करते. लेकिन टॉस ऑस्ट्रेलिया ने जीता और उनका ये फ़ैसला सही साबित हुआ.

ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट पर 328 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया.

2. स्टीवेन स्मिथ

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत ने ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट जल्द ही गिरा दिया था. डेविड वॉर्नर कुछ ख़ास नहीं कर पाए. लेकिन उसके बाद एरॉन फिंच और स्टीवेन स्मिथ ने ऑस्ट्रेलियाई पारी को न सिर्फ़ संभाला बल्कि ज़बरदस्त बल्लेबाज़ी की.

स्मिथ ने वनडे मैच की अपनी चौथी सेंचुरी लगाई और ऑस्ट्रेलिया को मज़बूत आधार प्रदान किया. स्मिथ ने सिर्फ़ 93 गेंदों पर 105 रन बनाए. उन्होंने दूसरे विकेट के लिए फिंच के साथ 182 रनों की साझेदारी भी की.

3. भारतीय गेंदबाज़ी

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

सिडनी की पिच को भाँप पाने में भारतीय गेंदबाज़ नाकाम रहे. उन्होंने शॉर्ट पिच गेंद करने की नाकाम कोशिश जारी रखी और फिर उनकी जम कर धुनाई हुई. सबसे ज़्यादा निराश तेज़ गेंदबाज़ों ने किया.

मोहम्मद शमी ने 68 रन दिए, उमेश यादव ने 72 और मोहित शर्मा ने 75 रन दिए. उमेश यादव तो चार विकेट लेने में सफल रहे, लेकिन मोहम्मद शमी के खाते में एक भी विकेट नहीं आए.

मोहित शर्मा ने दो विकेट लिए. सबसे अच्छी गेंदबाज़ी की अश्विन ने. उन्होंने 10 ओवरों में सिर्फ़ 42 रन दिए.

4. विराट कोहली का विकेट

इमेज कॉपीरइट REUTERS

ऑस्ट्रेलिया ने पहला विकेट जल्द ही गँवा दिया था. उसके बाद नंबर तीन पर बल्लेबाज़ी करने आए स्टीवेन स्मिथ ने बेहतरीन पारी खेली. लेकिन जब बारी भारत की आई तो इसका उल्टा हुआ.

विराट कोहली से भारत ने ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीदें बाँध रखी थी. लेकिन कोहली ने काफ़ी निराश किया. कोहली सिर्फ़ एक रन ही बना पाए.

कोहली के विकेट ने भारतीय कैंप को हताश कर दिया और उसके बाद भारतीय मध्यक्रम कभी भी भरोसेमंद नहीं दिखा. एक-एक करके विकेट गिरते रहे और आख़िरकार भारतीय टीम पूरे 50 ओवर भी नहीं खेल पाई.

5. ऑस्ट्रेलियन तेज़ गेंदबाज़

इमेज कॉपीरइट Reuters

ऑस्ट्रेलियन तेज़ गेंदबाज़ शुरू में थोड़ा परेशान ज़रूर दिखे, लेकिन उन्हें पता था कि उनके पास अच्छे रन हैं. एक बार विकेट गिरने शुरू हुए, तो उन्होंने भारतीय बल्लेबाज़ों की रीढ़ तोड़ दी.

मिचेल स्टार्क ने ख़ास तौर पर बेहतरीन गेंदबाज़ी की और 28 रन देकर दो विकेट लिए. जब भी भारतीय गेंदबाज़ थोड़ा जमने की कोशिश करते स्टार्क, जॉनसन और फॉकनर की तिकड़ी में से कोई न कोई आकर एक विकेट चटका देता था.

ये अलग बात है कि सिडनी की ये पिच सामान्य ऑस्ट्रेलियन पिच की तरह नहीं थी, जो आम तौर पर तेज़ गेंदबाज़ों को मदद करती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार