कैसा रहा विश्वकप में भारत का प्रदर्शन

महेंद्र सिंह धोनी इमेज कॉपीरइट AFP

विश्व कप क्रिकेट सेमीफ़ाइनल में ऑस्ट्रेलिया से 95 रनों से हारने के बाद भारत टूर्नामेंट से बाहर हो गया है. अब रविवार को मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया का फ़ाइनल मुक़ाबला न्यूज़ीलैंड से होगा.

लेकिन इस विश्व कप के शुरू होने से पहले भारतीय टीम को लेकर क्रिकेट पंडित गंभीर नहीं थे. सेमीफ़ाइनल से पहले भारत ने लगातार सात मैच जीते और एक नया भरोसा हासिल किया.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Reuters

पूल मैचों और क्वार्टर फ़ाइनल में ज़बरदस्त प्रदर्शन करने वाली भारतीय टीम सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलियाई टीम का तिलिस्म नहीं तोड़ पाई.

इस विश्व कप में भारतीय क्रिकेट टीम के खेल की समीक्षा की जाए तो भारत ने केवल एक ख़राब मैच खेला और वह भी सेमीफाइनल जैसा महत्वपूर्ण मुक़ाबला.

इससे पहले भारत ने आसानी से पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, वेस्टइंडीज़, आयरलैंड, ज़िम्बाब्वे और संयुक्त अरब अमीरात को मात दी.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

इसके बाद भारत ने क्वार्टर फाइनल में बांग्लादेश को भी मात दी. ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ सेमीफाइनल में भारतीय गेंदबाज़ी दबाव और तनाव में नज़र आई.

पिछले सात मैचों में 70 विकेट लेने वाले यानी सभी विरोधी टीमों को ऑलआउट करने वाले भारतीय गेंदबाज़ ऑस्ट्रेलिया के सात विकेट ही ले सके. हालांकि उन्हें शुरुआती सफलता जल्दी ही मिल गई थी.

आसान कैच

इमेज कॉपीरइट ALLSPORT AND GETTY

खराब फॉर्म में चल रहे डेविड वार्नर एक खराब शॉट खेलते हुए उमेश यादव की गेंद पर विराट कोहली को आसान कैच दे बैठे.

इसके बाद एरोन फिंच और स्टीव स्मिथ ने भारतीय गेंदबाज़ों को हताश कर दिया. विकेट में उछाल और तेज़ी नहीं थी.

ऐसे में उमेश यादव, मोहम्मद शमी और मोहित शर्मा ने शॉर्ट पिच गेंदें कर उन्हें जमने का अवसर दे दिया.

भारत के खिलाफ

इमेज कॉपीरइट AFP

एरोन फिंच ने 81 रन बनाए जबकि इससे पहले वह केवल इंग्लैंड के ख़िलाफ 135 रन बनाने में कामयाब हुए थे और रन बनाने के लिए जूझ रहे थे.

स्टिव स्मिथ तो पूरे ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर भारत के ख़िलाफ जमकर चमके. उनका शतक मैच में बड़ा अंतर साबित हुआ.

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ आर अश्विन को सावधानी से खेले. नतीजा ऑस्ट्रेलिया सात विकेट पर 328 रन बनाने में कामयाब रहा.

इस विश्व कप में भारत ने इससे पहले इतने बड़े स्कोर का पीछा नहीं किया था. ज़ाहिर है पहली बार भारतीय बल्लेबाज़ी पर दबाव पड़ा और वो बिखर गई.

तेज़ गेंदबाज़ी

इमेज कॉपीरइट AP

इसके अलावा बल्लेबाज़ी में पूरे विश्व कप में भारत को इससे पहले न तो इतनी सधी हुई तेज़ गेंदबाज़ी का सामना करना पड़ा जैसी ऑस्ट्रेलिया के जेम्स फॉक्नर, मिचेल स्टार्क और मिचेल जॉनसन ने की. इसका ख़ामियाज़ा उन्हें भुगतना पड़ा.

शिखर धवन ग़ैरज़िम्मेदाराना शॉट खेलकर आउट हुए तो विराट कोहली का भी यही हाल रहा. वहीं रोहित शर्मा जमने के बाद ऑउट हुए.

इमेज कॉपीरइट AP

सुरेश रैना तो सिडनी में खेले गए टेस्ट मैच में दोनों पारियों में अपना खाता भी नहीं खोल सके थे, यही दबाव उन पर सेमीफाइनल में भी नज़र आया.

बाद में धोनी और रहाणे को ऑस्ट्रेलिया ने खुलकर खेलने का मौक़ा ही नहीं दिया.

भारत ने विश्व कप में खराब खेल तो नहीं दिखाया लेकिन इतना ज़रूर माना जा सकता है कि भारत एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ वैसे ही दबाव में नज़र आया जैसा वह साल 2003 के विश्व कप के फाइनल में आया था. तब ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 125 रन से हराया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार