आज क्या दोहराया जाएगा 2003 या 2013?

धोनी और गांगुली इमेज कॉपीरइट Getty

सिडनी में विश्व कप के सेमीफ़ाइनल में मुक़ाबले में क्या भारतीय टीम 2003 के फ़ाइनल की तरफ़ बढ़ती हुई लग रही है? या फिर 2013 का पराक्रम दोहराएगी.

2003 में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को एकतरफ़ा फ़ाइनल में हराया था, जबकि 2013 में भारत ने 360 रनों के पहाड़ जैसे लक्ष्य का पीछा करते हुए भी ऑस्ट्रेलिया को हराया था.

जयपुर के सवाई मान सिंह स्टेडियम में पहले बल्लेबाज़ी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवरों में पाँच विकेट पर 359 रन बनाए थे, जवाब में भारत ने रोहित शर्मा (141 नाबाद) और विराट कोहली (100 नाबाद) की पारियों की बदौलत महज 43.3 ओवरों में ही एक विकेट पर 362 रन बनाकर मैच 9 विकेट से जीत लिया था.

जोहानिसबर्ग में खेले गए फ़ाइनल के हीरो रिकी पोंटिंग (140) थे तो क्या इस मैच में ये भूमिका स्टीवन स्मिथ (105) निभाएंगे.

इस विश्व कप में भारतीय टीम का सफर लगभग-लगभग 2003 के सफर की ही तरह है.

2003 में सौरभ गांगुली की कप्तानी में न्यूज़ीलैंड के दौरे में बुरी तरह पिटने के बाद भारतीय टीम विश्व कप खेलने पहुँची थी.

सिरीज़ बदली, भारतीय टीम बदली

इमेज कॉपीरइट Reuters

न्यूज़ीलैंड में भारत ने टेस्ट सिरीज़ 0-2 से हारी थी और सात मैचों की वनडे सिरीज़ में सिर्फ़ दो ही मुक़ाबले जीत सकी थी.

लेकिन ज़मीन और सिरीज़ क्या बदली? भारतीय टीम का तो मानो कायापलट हो गया था.

नीदरलैंड, ज़िम्बॉब्वे, नामीबिया, इंग्लैंड, पाकिस्तान, केन्या, श्रीलंका और न्यूज़ीलैंड को हराते हुए भारतीय टीम फ़ाइनल में पहुँची थी. (इस दौरान लीग मुक़ाबलों में भारत सिर्फ़ ऑस्ट्रेलिया से हारा)

केन्या को सेमीफ़ाइनल में हराने के बाद भारत ख़िताबी मुक़ाबले में जोहानिसबर्ग में ऑस्ट्रेलिया के सामने था. लेकिन इस मैच में भारत कहीं नहीं टिका और ऑस्ट्रेलिया की 359 रन की चुनौती के सामने 234 रन पर ही ढेर हो गया था.

दोहराई जाएगी कहानी?

इमेज कॉपीरइट AP

मौजूदा विश्व कप से पहले की कहानी भी क्रिकेटप्रेमियों की ज़हन में है.

ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट सिरीज़ और त्रिकोणीय सिरीज़ बुरी तरह गंवाने के बाद धोनी एंड कंपनी को कोई भी गंभीरता से नहीं ले रहा था.

लेकिन पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका को पीटने के बाद भारत ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और अपने सभी मैच जीतते हुए सेमीफ़ाइनल तक आ पहुँचा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार