क्रिकेटः कंगारुओं को दबोच पाएँगे कीवी ?

माइकल क्लार्क,  ब्रेंडन मैक्कुलम, क्रिकेट, ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को हो रहे विश्व कप फ़ाइनल में ऑस्ट्रेलिया पांचवीं बार और न्यूज़ीलैंड पहली बार चैंपियन बनने के लिए आपस में भिड़ रहे हैं.

ज़ाहिर है न्यूज़ीलैंड पर थोड़ा अधिक दबाव है. उसने पूल मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराया है लेकिन बस एक विकेट से.

उस मैच में न्यूज़ीलैंड के सामने जीत के लिए केवल 152 रनों का लक्ष्य था लेकिन ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ों ने न्यूज़ीलैंड के बल्लेबाज़ों की नाक में दम कर दिया.

न्यूज़ीलैंड के कप्तान ब्रेंडन मैक्कुलम ने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ पूल मैच में केवल 24 गेंदों पर 7 चौक्के और 3 छक्के लगाते हुए 50 रन बनाकर जीत की बुनियाद रखी थी. अब एक बार फिर टीम की निगाहें उन पर होंगी.

गप्टिल पर होगी नज़र

इमेज कॉपीरइट Reuters

मैक्कलम के अलावा वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ नाबाद 237 रनों की ज़ोरदार पारी खेलने वाले सलामी बल्लेबाज़ मार्टिन गप्टिल भी कम नहीं.

गप्टिल ने बांग्लादेश के ख़िलाफ भी 105 रनों की शतकीय पारी और अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ 57 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली थी.

इनके अलावा न्यूज़ीलैंड के कोरी एंडरसन ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ केवल 46 गेंदों पर 75 रनों की तूफ़ानी पारी खेली थी.

न्यूज़ीलैंड के ग्रांट इलियट को भी भला कौन भूल सकता है, जिन्होंने सेमीफ़ाइनल में दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ़ सांस रोक देने वाले मैच में नाबाद 84 रन ठोके थे और टीम को जीत की राह दिखाई.

गेंदबाज़ी में भी न्यूज़ीलैंड के पास टिम साउदी, ट्रैंट बोल्ट और एडम मिल्ने के रूप में बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़ और अनुभवी स्पिनर डेलियल विटोरी हैं.

क्लार्क को तोहफ़ा

इमेज कॉपीरइट AFP

दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया ने सेमीफ़ाइनल में पिछली चैंपियन भारत जैसी बड़ी टीम को 95 रन से हराया. इसके अलावा उसने क्वार्टरफ़ाइनल में पाकिस्तान को भी आसानी से छह विकेट से हराया.

उनके कप्तान माइकल क्लार्क पहले ही कह चुके हैं कि फ़ाइनल के बाद वह एकदिवसीय क्रिकेट के अलविदा कह देंगे. ऐसे में उनकी टीम उनकी विदाई ख़िताबी तोहफ़े से करना चाहेगी.

ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज़ डेविड वार्नर फॉर्म में नहीं हैं लेकिन उनका बल्ला चल निकला तो शुरुआती ओवर में ही फ़र्क नज़र आ जाएगा.

गेंदबाज़ी में मिचेल जॉनसन और मिचेल स्टार्क क्या कर सकते हैं यह वे भारत के ख़िलाफ़ दिखा ही चुके हैं

फ़ील्डिंग है मजबूत

इमेज कॉपीरइट Getty

दमदार फ़ील्डिंग दोनों टीमों का मज़बूत पक्ष हैं. ऑस्ट्रेलिया के लिए स्टीव स्मिथ सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज़ हैं.

भारत के ख़िलाफ़ 105, पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 65, श्रीलंका के ख़िलाफ़ 72 और अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ 95 रन विरोधी गेंदबाज़ो में हलचल मचाने के लिए काफ़ी हैं.

मध्य क्रम में ग्लेन मैक्सवैल पाकिस्तान के ख़िलाफ़ नाबाद 44, श्रीलंका के ख़िलाफ़ 102, अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ 88 और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ 66 रनों की पारी खेल चुके हैं.

न्यूज़ीलैंड ने अभी तक अपने सभी मुक़ाबले अपने घर में खेले हैं. क्रिकेट समीक्षक इसे उसका कमज़ोर पक्ष मान रहे हैं.

काग़ज़ पर दोनों टीमें टक्कर की नज़र आती हैं लेकिन रविवार शाम को जश्न मनाना किसके हिस्से आएगा ये वक़्त ही बताएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार