सरकारी स्कीम में नाम न होने पर भड़की ज्वाला

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत की डबल्स बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने भारत सरकार की नई योजना में उनका नाम न होेने पर आपत्ति जताई है. इस योजना के तहत उन खिलाड़ियों को आर्थिक मदद मिलेगी जिनके 2016 ओलपिंक में पदक जीतने के आसार हैं.

ज्वाला ने फ़ेसबुक पर दी प्रतिक्रिया में कहा, "मेरा और मेरी साथी खिलाड़ी अश्विनी का नाम योजना में नहीं है. हमें सिर्फ़ भारत सरकार से ही मदद की उम्मीद थी, पर वो भी धूमिल हो गई है. जिन खिलाड़ियों के पास पहले से ही कॉरपॉरेट फ़ंडिंग थी उनका नाम लिस्ट में है. पता नहीं हमें और क्या करना पड़ेगा. मैं निराश हूँ."

ज्वाला गुट्टा ने कहा, अगर मैं कुछ कहती हूँ तो लोग इसे शिकायत समझते हैं. अगर चुप रहूँ तो हमें यूँ ही छोड़ दिया जाता है.

ज्वाला गुट्टा और और उनकी डबल्स पार्टनर अश्विनी पोनप्पा ने भारत के लिए कई मेडल जीते हैं. पिछले ही दोनों ने तीन पदक अपने नाम किए.

'हौसला कैसे बनाए रखें'

इमेज कॉपीरइट AFP

अपनी हताशा जताते हुए ज्वाला ने लिखा है, "हमने खेलने के लिए बहुत संघर्ष किया है. एसोसिएशन हमें नज़रअंदाज़ करती रही है और अब सरकार भी. ऐसे में हम अपना हौसला कैसे बनाए रखें."

ज्वाला ने कहा कि अगर अच्छे प्रदर्शन के बाद भी समर्थन नहीं मिलता तो डबल्स खिलाड़ियों से कोई उम्मीद भी नहीं रखी जानी चाहिए.

अपने फ़ेसबुक पन्ने पर ज्वाला ने कहा कि उनका ये पोस्ट एक हताश खिलाड़ी की अभिव्यक्ति है.

ज्वाला ने किसी का नाम न लेते हुए ये भी लिखा कि इस बात का जवाब मिल गया है कि क्यों एकल खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और डबल्स खिलाड़ी क्यों नहीं- क्योंकि हमें बार बार धकेला जा रहा है.