36 साल बाद ओलंपिक खेलने की आस बंधी

भारतीय हॉकी टीम इमेज कॉपीरइट AFP

भारत ने महिला हॉकी वर्ल्ड लीग सेमीफ़ाइनल में जापान को 1-0 हराकर पाँचवां स्थान हासिल किया और रियो ओलंपिक में खेलने की उम्मीदों को ज़िंदा रखा है.

एंटवर्प में खेले गए प्ले ऑफ़ मुक़ाबले में गोलकीपर सविता ने जापान की अंग्रिम पंक्ति का डटकर सामना किया और कई गोल बचाए.

भारत की तरफ़ से एकमात्र गोल 13वें मिनट में रानी रामपाल ने किया. वंदना कटारिया के तेज़ शॉट पर जापानी गोलकीपर के टकराकर लौटी गेंद को रानी ने गोल में पहुँचाने में कोई ग़लती नहीं की.

36 साल बाद..

अंतिम क्वार्टर में जापान को पाँच पेनल्टी कॉर्नर मिले, लेकिन गोल के सामने चट्टान की तरह डटी रही और जापान को हर बार मायूसी हाथ लगी.

इमेज कॉपीरइट PTI

भारतीय महिला टीम पिछली बार 1980 में ओलंपिक में खेली थी. भारत को यहाँ पाँचवां स्थान मिला है और इस तरह से उसे रियो ओलंपिक की टिकट मिलनी चाहिए, लेकिन कुछ किंतु परंतु अभी बाकी हैं.

हाल में वालेंसिया और इस वर्ल्ड लीग सेमीफ़ाइनल से शीर्ष तीन-तीन टीमें ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करेंगी. इसके अलावा पाँचों महाद्वीपों की चैंपियन टीमों को भी रियो में सीधे प्रवेश मिलेगा. वालेंसिया से जर्मनी, इंग्लैंड और चीन ने ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया है.

किसी टीम के दो रास्तों से क्वालिफाई करने की सूरत में भारत के रियो का टिकट पक्का हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार