ज़िम्बाब्वे के खिलाफ़ कसौटी पर यंगिस्तान

अजिंक्य रहाणे इमेज कॉपीरइट AP

भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को मेज़बान ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ तीन एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ का पहला मैच हरारे में खेलने उतरेगी.

भारत पिछले दिनों बांग्लादेश से तीन मैचों की एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट सिरीज़ 2-1 से हार गया था.

महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, शिखर धवन, सुरेश रैना, उमेश यादव और आर अश्विन जैसे नियमित और अनुभवी खिलाड़ियों की ग़ैरमौजूदगी में ज़िम्बाब्वे में टीम की कमान अजिंक्य रहाणे संभालेंगे.

अब यह भी इत्तेफ़ाक़ ही है कि जिन अजिंक्य रहाणे को पिछले बांग्लादेश दौरे में पहले वनडे मुक़ाबले के बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने यह कहकर टीम से बाहर का रास्ता दिखाया था कि वह धीमे विकेटों पर स्ट्राइक रोटेट नहीं कर पाते वही रहाणे टीम के कप्तान है.

वैसे भी अनुभवी खिलाड़ियों के टीम में ना रहने से चयनकर्ताओं के पास इसके अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं था.

भारत भारी

इमेज कॉपीरइट Getty

अगर आंकड़ों की बात करें तो भारत और ज़िम्बाब्वे के बीच अभी तक 57 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले गए हैं जिनमें 45 बार भारत और 10 ज़िम्बाब्वे विजयी रहा है जबकि दो मैच टाई रहे.

भारत ने ज़िम्बाब्वे में इससे पहले 17 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले खेले हैं जिनमें 13 बार भारत और 4 बार ज़िम्बाब्वे जीता है.

इससे पहले भारत ने विराट कोहली की कप्तानी में साल 2013 में ज़िम्बाब्वे का दौरा किया था और एकदिवसीय सिरीज़ 5-0 से अपने नाम की थी.

वैसे दोनो टीमें अंतिम बार विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट में इसी साल मार्च में न्यूज़ीलैंड के ऑकलैंड में आमने-सामने हुई थीं जहां भारत ने 6 विकेट से जीत दर्ज की थी.

भारत के सामने जीत के लिए 288 रनों का लक्ष्य था जो उसने सुरेश रैना के नाबाद 110 रनो की मदद से 4 विकेट खोकर हासिल किया था.

मौका

इमेज कॉपीरइट EPA

इस भारतीय टीम में मुरली विजय भी है जिन्होने ऑस्ट्रेलियाई दौरे में शानदार प्रदर्शन किया था लेकिन उसके बाद विश्व कप की टीम में उन्हें जगह नही मिली थी जिसकी चारों तरफ आलोचना हुई.

अब उनके पास अपनी उपयोगिता साबित करने का अवसर है.

कुछ ऐसा ही हाल अंबाती रायडू का है जिन्हें कब टीम में शामिल किया जाता है कब निकाला जाता है और कब किस नंबर पर खिलाया जाता है इसका पता शायद उन्हें भी ना चलता हो.

अब अपनी जगह पक्की करने का उनके पास भी मौक़ा है.

हरभजन की वापसी

इमेज कॉपीरइट AP

टीम में चार साल बाद वापसी कर रहे ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह टीम के सबसे अनुभवी गेंदबाज़ है जिन्होंने अभी तक 229 एकदिवसीय मैचों में 259 विकेट लिए है, उन पर भी सबकी नज़रें रहेंगी.

उनके अलावा भुवनेश्वर कुमार और मोहित शर्मा तेज़ गेंदबाज़ी की बागडोर संभालेंगे.

कप्तान अजिंक्य रहाणे ने निसंदेह थोड़े ही समय में अपनी विशेष पहचान बनाई है.

वह अभी तक 55 एकदिवसीय मैचों में दो शतक की मदद से 1593 रन बना चुके हैं. बल्लेबाज़ी में उन पर भारत का दारोमदार रहेगा.

चुनौती

इमेज कॉपीरइट Reuters

दूसरी तरफ एल्टन चिगुंबुरा की कप्तानी में खेलने वाली ज़िम्बाब्वे को कमज़ोर नहीं मानना चाहिए.

भले ही पिछले दिनों वह पाकिस्तान में एकदिवसीय और ट्वेंटी-ट्वेंटी मुक़ाबले हार गए. ज़िम्बाब्वे ने हारने से पहले कडा संघर्ष किया यहां तक कि पहले एकदिवसीय मुक़ाबले में तो उन्होंने 376 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 334 रन बना डाले.

ऐसे में एकदिवसीय मैचों के नए नियमों के साथ भारतीय टीम सावधानी से ही ज़िम्बॉब्वे का सामना करेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार