'सलामी बल्लेबाज़ों में अच्छी प्रतियोगिता'

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत के सलामी बल्लेबाज़ मुरली विजय का कहना है कि श्रीलंका के ख़िलाफ़ अगले हफ्ते से शुरू हो रही टेस्ट सिरीज़ में बल्लेबाज़ों पर अतिरिक्त दबाव नहीं होगा.

तीन टेस्ट मैचों की इस सिरीज़ का पहला मैच 12 अगस्त से गॉल में शुरू होगा.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार पांच गेंदबाज़ों को टीम में रखने की कप्तान विराट कोहली की रणनीति पर मुरली विजय बेफिक्र दिखते हैं.

वो बांग्लादेश के ख़िलाफ़ 150 रन ठोंकने के बाद इस सिरीज़ में उतरेंगे.

मुरली विजय सलामी बल्लेबाज़ के तौर पर टेस्ट टीम में अपनी जगह पक्की करना चाहेंगे.

वो कहते हैं, "बात चाहत की नहीं है. दरअसल यही हमारी भूमिका है और हममें से अगर कोई चल जाता है तो टीम के लिए ये अच्छा होगा."

अच्छी चुनौती

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption मुरली विजय और शिखर धवन

जब उनसे पूछा गया कि क्या पांच गेंदबाजों को टीम में रखने की रणनीति से ऊपरी क्रम से बल्लेबाज़ों पर कोई दबाव होगा, तो उन्होंने कहा, "अच्छा लगता है कि जब कंधे पर ज़िम्मेदारी आती है कि जाइए और बल्लेबाज़ी कीजिए. अगर आपको टेस्ट टीम में दबदबा कायम करना है तो आपको टीम के तौर पर खेलना होगा."

उनके मुताबिक़, "आपको योजना बनानी होगी और उसी के हिसाब से काम करना होगा."

सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन ने भी बांग्लादेश में 173 रन की शानदारी पारी खेली थी और लौकेश राहुल भी आख़िरी 11 खिलाड़ियों में जगह पाने के प्रबल दावेदार हैं.

ऐसे में, टीम में आने की इस प्रतियोगिता को लेकर भी मुरली विजय ज़्यादा चिंतित नहीं दिखते.

वो कहते हैं, "इस से (ऊपरी क्रम में प्रतियोगिता से) सबके लिए चुनौती बढ़ेगी कि कमर कसें और टीम के लिए कुछ और योगदान दें."

उन्होंने इसे 'एक अच्छी चुनौती' बताया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)