इंग्लिश प्रीमियर लीग में पहली भारतीय महिला

इमेज कॉपीरइट Aditi Chauhan

इंग्लिश प्रीमियर लीग भारतीय फ़ुटबॉलरों के लिए अबतक दूर की कौड़ी रहा है.

माइकल चोपड़ा जैसे भारतीय मूल के खिलाड़ी इंग्लिश प्रीमियर लीग में खेले तो, लेकिन ये सभी किसी और देश की नागरिकता रखते हैं.

पहली बार किसी भारतीय खिलाड़ी ने ईपीएल में क़दम रखा है. 22 साल की अदिति चौहान ने इंग्लिश प्रीमियर लीग के जाने माने क्लब 'वेस्ट हैम' के लिए बतौर गोलकीपर हाल ही में पदार्पण किया.

इमेज कॉपीरइट Aditi Chauhan

अदिति भारतीय अंडर-19 टीम की गोलकीपर भी रह चुकी हैं.

जब उन्होंने लंदन आने का निर्णय लिया था तो उन्हें ये बिलकुल भी अंदाज़ा नहीं था कि उनका चयन वेस्ट हैम के लिए हो जाएगा.

वो बताती हैं, "पिछले साल तक मैं लाफ़बॉरो यूनिवर्सिटी के लिए खेल रही थी. ये लीग मेरे लिए बिलकुल नई है और दर्जे में काफ़ी बेहतर है."

"मेरा टीम के साथ जुड़ना देर से हुआ. पहले मैच में मुझे थोड़ी दिक़्क़त हुई, लेकिन अब मुझे पता है मुझे क्या करना है."

बास्केटबॉल कोर्ट से गोल पोस्ट

इमेज कॉपीरइट Aditi Chauhan

फ़ुटबॉल अदिति का पहला प्यार नहीं है. स्कूल में अदिति बास्केटबॉल की खिलाड़ी थीं.

अपने कोच के कहने पर उन्होंने दिल्ली फ़ुटबॉल टीम की गोलकीपर के लिए ट्रायल दिए और चुन ली गईं.

भारत के लिए खेलते हुए अदिति की सबसे बड़ी कामयाबी 2013 में सैफ़ वूमेन्स कप जीत है.

ये पूछे जाने पर कि क्या भारतीय महिलाएं अंतरराष्ट्रीय दर्जे की फ़ुटबॉल में शामिल होने के लिए सक्षम हैं.

अदिति कहती हैं, "व्यक्तिगत तौर पर भारत के कई खिलाड़ी काफ़ी अच्छे हैं. लेकिन हमें ज़्यादा मैच प्रैक्टिस नहीं मिल पाती. इसलिए एक टीम के तौर पर हम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते."

"मुझे लगता है ये एक बहुत बड़ा अंतर है हमारे और बाहर के खिलाड़ियों के बीच."

भारत के लिए जारी रहेगा खेलना

इमेज कॉपीरइट Aditi Chauhan

अदिति से पहले भारतीय मूल की तन्वी हंस भी इंग्लिश प्रीमियर लीग से जुड़ चुकी हैं. लेकिन ब्रिटिश नागरिकता होने की वजह से वो भारत के लिए नहीं खेल सकीं.

वेस्ट हैम से फ़िलहाल क सत्र के लिए जुड़ी अदिति लौटकर भारत का ही प्रतिनिधित्व करना चाहती हैं.

इमेज कॉपीरइट Aditi Chauhan

वो कहती हैं, "ये क्लब तीसरी श्रेणी का है, मेरा लक्ष्य पहली श्रेणी के क्लब के लिए खेलना है."

"हालांकि भारतीय फ़ेडरेशन मुझे जब भी बुलाना चाहेगी, मैं भारत के लिए खेलने लौट आऊंगी."

वेस्ट हैम के महिला फ़ुटबॉल क्लब की स्थापना 1991 में हुई थीं. फ़िलहाल अदिति ही इस क्लब की ग़ैर-ब्रिटिश खिलाड़ी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार