मैदान पर तकरार को लेकर ईशांत सस्पेंड

इमेज कॉपीरइट AFP

श्रीलंका के ख़िलाफ़ तीसरे टेस्ट मैच के दौरान सोमवार को भारत के ईशांत शर्मा और श्रीलंका के कुछ क्रिकेटरों के बीच हुई झड़प पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने कड़ा रुख़ अपनाया है.

आईसीसी ने ईशांत शर्मा को एक टेस्ट मैच के लिए निलंबित कर दिया है, जबकि श्रीलंका के दिनेश चांडीमल को एक वनडे के लिए निलंबित किया गया है. श्रीलंका के ही लहिरू थिरिमाने और धमिका प्रसाद पर मैच फ़ीस का 50 फ़ीसदी जुर्माना लगाया गया है.

आईसीसी की जाँच में भारत के ईशांत शर्मा और श्रीलंका के तीन क्रिकेटरों को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया गया है.

ये घटना सोमवार को 76वें ओवर के दौरान घटी, जब चांडीमल ने जान-बूझकर ईशांत शर्मा को धक्का दिया. ये घटना उस समय हुई जब ईशांत शर्मा और श्रीलंका के तेज़ गेंदबाज़ धमिका प्रसाद के बीच गरमा-गरम बहस चल रही थी.

चेतावनी

इमेज कॉपीरइट AFP

धमिका प्रसाद और ईशांत शर्मा के बीच मैदान पर हुई बहस से पहले अंपायरों ने लहिरू थिरिमाने को दो बार इस मामले में न पड़ने की चेतावनी दी थी. इस घटना में इन दोनों खिलाड़ियों की भूमिका को देखते हुए उन पर 50-50 फ़ीसदी मैच फ़ीस का जुर्माना लगाया गया है.

चांडीमल के ख़िलाफ़ हुए फ़ैसले का मतलब ये है कि अब वे एक नवंबर को वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ पहले वनडे में नहीं खेल पाएँगे.

श्रीलंका की दूसरी पारी के पहले ओवर में ईशांत शर्मा ने उपुल थरंगा को आउट होने पर उन्हें बाहर जाने का इशारा किया था.

इस सिरीज़ के दौरान ये तीसरा मौक़ा था, जब ईशांत ने इस तरह की हरकत की थी.

कार्रवाई

इमेज कॉपीरइट Reuters

इसलिए आईसीसी ने ईशांत पर कार्रवाई करते हुए उन्हें एक टेस्ट के लिए निलंबित कर दिया है यानी वे पाँच नवंबर से मोहाली में दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ पहले टेस्ट मैच में नहीं खेल पाएँगे.

इतना ही नहीं आईसीसी ने कहा है कि अगर ईशांत अगले 12 महीने में फिर ऐसी हरकत करते हैं, तो उन पर लंबे समय तक की पाबंदी लगाई जा सकती है.

आईसीसी के मैच रेफ़री एंडी पाइक्रॉफ़्ट ने कहा, "सोमवार की घटना अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए अच्छी नहीं थी. ये अनुभवी खिलाड़ी अपनी मूलभूत ज़िम्मेदारी भूल गए थे. वे ऐसी घटना में शामिल थे, जो क्रिकेट की भावना के अनुरूप नहीं."

मंगलवार को मैच समाप्त होने पर चारों खिलाड़ियों ने अपनी ग़लती स्वीकार कर ली और पाबंदी को स्वीकार किया. इसलिए अब इस मामले पर कोई औपचारिक सुनवाई नहीं होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार