फ़ीफ़ा महासचिव जेरोम वाल्क निलंबित

जेरोम वाल्क इमेज कॉपीरइट Reuters

अंतरराष्ट्रीय फ़ुटबॉल फ़ेडरेशन फ़ीफ़ा के महासचिव जेरोम वाल्क को निलंबित कर दिया गया है. उन्हें छुट्टी पर भेज दिया गया है और अगले आदेश तक कार्यमुक्त कर दिया गया है.

फ़ीफ़ा की ओर से जारी बयान में इसकी जानकारी दी गई है. बयान में कहा गया है कि संस्था को महासचिव से जुड़े कई आरोपों के बारे में जानकारी दी गई है.

गुरुवार को अख़बारों में 54 वर्षीय वाल्क को एक स्कीम के तहत विश्व कप के टिकट तय क़ीमत से ज़्यादा में बेचने के मामले में दोषी बताया गया था.

जेरोम वाल्क ने इन आरोपों से इनकार किया था. वे वर्ष 2007 से फ़ीफ़ा के महासचिव हैं.

इस साल मई से फ़ीफ़ा भ्रष्टाचार के कई आरोपों से घिरा हुआ है. इसी महीने स्विट्ज़रलैंड की पुलिस ने ज्यूरिख के एक होटल में छापा मारकर फ़ीफ़ा के कई अधिकारियों को गिरफ़्तार किया था.

जाँच

जून में फिर से फ़ीफ़ा का अध्यक्ष चुने जाने के बाद सेप ब्लैटर ने घोषणा की कि वे पद से हट जाएँगे.

वाल्क नए अध्यक्ष के लिए चुनाव में खड़े होने की सोच रहे थे लेकिन अब उन्हें फ़ीफ़ा की आचारसंहिता समिति की ओर से औपचारिक जाँच का सामना करना पड़ेगा.

एक करोड़ डॉलर कथित रिश्वत के मामले में भी हाल के महीनों में वाल्क की भूमिका की जाँच हुई थी.

अमरीकी अभियोजकों का कहना है कि दक्षिण अफ़्रीका ने पैसा फ़ीफ़ा के पूर्व उपाध्यक्ष जैक वॉर्नर को दिया था ताकि वे उसकी मेज़बानी के दावे का समर्थन करें. आख़िरकार दक्षिण अफ़्रीका को वर्ष 2010 के विश्व कप की मेज़बानी भी मिल गई थी.

न्यूयॉर्क टाइम्स और अमरीका के अन्य मीडिया में अमरीकी अधिकारियों के हवाले से दावा किया गया है कि वाल्क वही अधिकारी थे, जिन्होंने पैसे दिए थे. हालांकि वाल्क ने इसका खंडन किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार