भेदभाव का आरोप लगाकर रो पड़ीं मेरी कॉम

एम सी मैरी कॉम इमेज कॉपीरइट PTI

ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता एमसी मेरी कॉम एक सार्वजनिक कार्यकर्म के दौरान तब रो पड़ीं, जब उनके सामने ओलंपिक की तैयारियों के लिए आर्थिक सहायता मिलने का जिक्र हुआ.

उन्होंने रियो ओलंपिक से पहले मुक्केबाज़ों की चयन प्रक्रिया पर गंभीर सवाल भी उठाए.

मेरी कॉम ने संवाददाताओं से कहा, “कभी-कभी मैं बहुत ख़राब महसूस करती हूँ. कुछ रेफरी और जज मेरे पक्ष में नहीं होते, लेकिन मुझे बुरा नहीं लगता. ठीक है मैं पूर्वोत्तर से हूँ, लेकिन फिर भी मैं भारतीय हूँ.”

इमेज कॉपीरइट PTI

32 वर्षीय मेरी कॉम ने चयनकर्ताओं पर उन्हीं के भार वर्ग में खेल रही हरियाणा की पिंकी जांगड़ा का पक्ष लेने का आरोप भी लगाया. पाँच बार की विश्व चैंपियन मेरी कॉम ने कहा कि ये हाल तब है जबकि पिंकी को वो हरा चुकी हैं.

मेरी कॉम ने कहा, “यहाँ कई विवाद हैं. पिंकी जांगड़ा को मैंने हमेशा हराया और गोल्ड मेडल हासिल कर खुद को साबित किया है, लेकिन वे (चयनकर्ता) उनका समर्थन जारी रखे हुए हैं.”

'ख़ुद को साबित करूँगी'

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पूर्व बिलियर्ड्स चैंपियन गीत सेठी ने मैरी कॉम को ढांढस बढ़ाया

मणिपुर की मैरी कॉम ने कहा कि उन्होंने फिर खुद को साबित करने की ठानी है.

मेरी कॉम ने कहा, “कोई बात नहीं. मैं रिंग में खुद को साबित करूँगी.”

मेरी पांच बार की विश्व चैंपियन हैं जबकि चार बार वो एशियन चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं. इसके अलावा 2014 के एशियन गेम्स में भी उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था.

वहीं, 2012 लंदन ओलंपिक में जब महिला मुक्केबाजी प्रतियोगिता को इस आयोजन में शामिल किया गया तो वो यहां कांस्य पदक जीतकर ओलंपिक में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज़ बनीं थीं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार