भारत जीत का सिलसिला बरकरार रख पाएगा?

महेंद्र सिंह धोनी कप्तान भारत इमेज कॉपीरइट Reuters

इंदौर में दक्षिण अफ्रीका को 22 रन से मात देने के बाद उत्साहित भारतीय क्रिकेट टीम रविवार को राजकोट में तीसरा एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने उतरेगी.

इससे पहले भारत ट्वंटी-ट्वंटी सिरीज़ हारने के बाद पहला एकदिवसीय मैच 5 रन से हार गया था.

ट्वंटी-20 मैचों में लगातार तीन हार ने भारतीय टीम के मनोबल पर गहरा असर डाला था.

दूसरे मैच में भी एक समय दक्षिण अफ्रीका जीत की तरफ बढ़ रहा था, ख़ासकर जब उसका स्कोर 3 विकेट खोकर 134 रन था.

इसके बाद धड़ाधड़ विकेट गिरे और मैच भारत की झोली में आ गया.

रहाणे ने दिखाया है दमख़म

इमेज कॉपीरइट AFP

अभी तक खेले गए दोनों मुक़ाबलों में अजिंक्य रहाणे ने शानदार बल्लेबाज़ी की है.

इंदौर में उन्होंने 51 रन बनाए तो पहले मैच में उन्होंने 60 रन बनाए.

वहीं लगातार आलोचना का सामना कर रहे महेंद्र सिंह धोनी ने इंदौर में नाबाद 92 रन बनाकर ना सिर्फ कप्तानी पारी खेली बल्कि टीम को भी सम्मानजनक 9 विकेट पर 247 रन के स्कोर तक पहुंचाया.

जबकि एक समय तो भारत के 7 विकेट केवल 165 रन पर गिर चुके थे.

बल्लेबाज़ी अभी भी समस्या

इमेज कॉपीरइट AP

विराट कोहली की ख़राब फॉर्म मेजबानों के लिए चिंता की बात है. कोहली के बल्ले से विश्व कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ शतक निकला था. उसके बाद से अब तक 12 पारियों में उनसे अर्धशतक तक नहीं बना है.

सुरेश रैना भी पिछली दो पारियो में केवल 3 रन ही बना सके हैं. अगर भारत को दक्षिण अफ्रीका से पार पाना है तो शिखर धवन से लेकर पुछल्ले बल्लेबाज़ों को भी रन बनाने होंगे.

इमेज कॉपीरइट AFP

उधर, दक्षिण अफ्रीका ने जिस तरह इंदौर मे प्रदर्शन किया उससे यह भी साफ ज़ाहिर हो गया कि दबाव में या जीत के लिए रनों का पीछा करते समय उसके बल्लेबाज़ भी लड़खड़ाते हैं.

हाशिम आमला, एबी डीविलियर्स, फॉफ-डू-प्लेसिस से लेकर इमरान ताहिर तक ग़ैरज़िम्मेदाराना शॉट खेलते हुए आउट हुए.

उम्दा फिल्ड़िंग और गेंदबाज़ी ने बचाया

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले मैच में विराट कोहली ने फॉफ-डू-प्लेसिस, एबी डीविलियर्स और डेल स्टेन के बेहतरीन कैच पकडे.

कप्तान धोनी ने भी हाशिम अमला को स्टम्प करने के अलावा तीन कैच पकड़े.

अमित मिश्रा की जगह अक्षर पटेल को खिलाने का दांव ठीक बैठा और उन्होंने और भुवनेश्वर कुमार ने तीन-तीन विकेट अपने नाम किए.

लगातार हार के बाद भारत अब बढ़े हुए मनोबल के साथ राजकोट में उतर सकता है, लेकिन देखना है कि जीत की गाड़ी कितने मैचों तक पटरी पर रहती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार