तय था रूस को मेज़बानी देने का फ़ैसला:ब्लैटर

ब्लैटर और पुतिन इमेज कॉपीरइट AP

फीफा के निलंबित अध्यक्ष सेप ब्लैटर ने कहा है कि 2018 वर्ल्ड कप को लेकर मतदान होने के पहले ही रूस को मेजबानी देने पर सहमति बन गई थी.

ब्लैटर ने रूस की समाचार एजेंसी तास को भविष्य में होने वाले वर्ल्ड कप को लेकर साल 2010 में हुई 'चर्चा' की जानकारी दी.

उन्होंने ये भी कहा कि मतदान के वक्त आखिरी समय में हुए बदलाव की वजह से 2022 विश्व कप की मेजबानी क़तर को मिली.

समझौते के तहत ये मेजबानी अमरीका को मिलनी थी.

ब्लैटर फिलहाल नब्बे दिनों के लिए निलंबित हैं. वो किसी भी तरह का ग़लत काम करने से इनकार करते रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

ये पूछे जाने पर कि क्या 2018 और 2022 में होने वाले टूर्नामेंट के लिए एक साथ मतदान कराना एक गलती थी, ब्लैटर ने कहा, " मतदान के पहले समूह के अंदर ये सहमति बन गई थी कि हम रूस का समर्थन करेगे क्योंकि पहले कभी पूर्वी यूरोप को मेजबानी नहीं मिली थी और 2022 के लिए हम अमरीका का समर्थन करेंगे"

उन्होंने कहा, " ऐसे में दो सबसे बड़ी राजनीतिक शक्तियों में विश्व कप का आयोजन होता"

ब्लैटर ने बताया कि यूरोप के चार वोटों के आखिरी वक्त में पाला बदलने से अमरीका की जगह क़तर को मेजबानी मिल गई.

विश्व कप 2018 और 2022 की बिडिंग प्रक्रिया को लेकर ही स्विट्जरलैंड के जांचकर्ता जांच में जुटे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार