अब कहां हैं क्रिकेट के 'वंडर किड्स'?

इमेज कॉपीरइट Aayush Deshpande

मुंबई के 15 साल के बल्लेबाज़ प्रणव धनावड़े ने क्रिकेट के मैदान में वो कारनामा कर दिखाया है, जिसकी अब तक केवल कल्पना की जाती थी.

एक पारी में 1009 नाबाद रन. इतने रन तो एक पारी में पूरी टीम से नहीं बनते.

यही वजह है कि ऑस्ट्रेलियाई दौर पर रवाना होने से पहले वनडे टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, “इतने रन बनाना मजाक नहीं है. किसी भी तरह की परिस्थिति में, किसी भी तरह के मैदान में इतनी कम उम्र में इतने रन बनाना, बड़ी बात है. यह बहुत है, अब सुधार करना अहम है. वह जरूर विशेष प्रतिभा है. वह अपनी बल्लेबाज़ी के दौरान कैलकुलेट कर रहा था, यह काफी दुर्लभ है.”

इमेज कॉपीरइट AYUSH DESHPANDE

धोनी ने केवल प्रणव के करिश्मे की तारीफ़ ही नहीं की बल्कि उस ख़तरे की ओर भी इशारा किया है कि जिसमें कम उम्र में क्रिकेट के मैदान में धमाकेदार पारियां खेलने वाले वंडर किड्स क्रिकेट के मैदान में बहुत करिश्मा नहीं दिखा पाते.

हालांकि सचिन तेंदुलकर, विनोद कांबली और राहुल द्रविड़ सरीखे क्रिकेटरों ने स्कूली क्रिकेट के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट में भी कामयाबी का सफर जारी रखा.

लेकिन ऐसे दूसरे उदाहरण भी हैं, जहां वंडर किड बहुत आगे नहीं जा पाते हैं.

प्रणव धनावड़े ने भारतीय क्रिकेट में जिन पृथ्वी शॉ के 546 रनों का रिकॉर्ड तोड़ा है, उन्होंने हैरिश शील्ड क्रिकेट में नवंबर, 2013 में 546 रनों की पारी खेली थी.

इमेज कॉपीरइट Prithvi Shaw

इसके बाद, दो साल बीतने के बाद भी पृथ्वी शॉ कोई बड़ा करिश्मा नहीं दिखा पाए हैं.

हालांकि अभी उनकी उम्र 16 साल ही है और वे मुंबई की अंडर-16 टीम के कप्तान भी हैं. उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से भी होती है, लेकिन उनके सामने उम्मीदों का मुश्किल पहाड़ है.

इन दोनों से पहले दिसंबर, 2010 में 13 साल के अरमान जाफ़र ने स्कूली टूर्नामेंट में 498 रनों की तूफानी पारी खेली थी.

पांच साल बीतने के बाद भी अरमान जाफ़र को अब भी अपने पांव मज़बूती से टिकाने की जरूरत पड़ रही है. हालांकि वे मुंबई की अंडर 23 और वेस्ट जोन की अंडर 19 टीम में शामिल हैं. लेकिन वे अब तक मिले मौकों को बड़े मौके मे तब्दील नहीं कर पाए हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

उन्होंने अंडर 19 क्रिकेट में बीते साल लगातार तीन दोहरे शतक जरूर बनाए हैं, लेकिन उनका ये प्रदर्शन मुंबई की रणजी टीम में उन्हें जगह नहीं दिला पाया.

हालांकि उनसे एक साल पहले वंडर किड के तौर पर धमाका करने वाले सरफराज ख़ान जरूर थोड़े कामायब नजर आते हैं. सरफराज ख़ान ने महज 12 साल की उम्र में दिसंबर, 2009 में हैरिश शील्ड इंटर स्कूल टूर्नामेंट में 439 रनों की पारी खेली थी.

इसके बाद उन्होंने मिले मौके का काफी हद तक फ़ायदा उठाया है. महज 15 साल की उम्र में भारत की अंडर 19 टीम में जगह बनाने में कायमाब रहे. अंडर 19 टीम में नंबर छह बल्लेबाज़ के तौर पर उन्होंने कुछ धमाकेदार पारियां खेली हैं. मुंबई रणजी टीम में जगह हासिल करने में आ रही मुश्किलों को देखते हुए सरफराज ख़ान अब उत्तर प्रदेश की टीम में शामिल हो गए हैं.

इंडियन प्रीमियर लीग में उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलौर की टीम में मौका मिला है. राजस्थान रायल्स के अपने दूसरे ही मैच में उन्होंने महज 21 गेंद पर 45 रन भी बनाए थे.

इमेज कॉपीरइट PTI

हालांकि अरमान जाफ़र और सरफराज़ ख़ान के लिए बांग्लादेश में 22 जनवरी, 2016 से शुरू होने वाला अंडर 19 वर्ल्ड कप बड़ा मौका है.

वैसे क्रिकेट के वंडर किड्स में अमोल मजूमदार और वसीम जाफ़र का नाम भी आता है. अमोल मजूमदार भारतीय टीम में कभी शामिल नहीं हो पाए, जबकि वसीम जाफ़र का 31 टेस्ट और 2 वनडे का इंटरनेशनल करियर भी चमकदार नहीं रहा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार