गेंदबाज़ी तय करेगी टी-ट्वंटी सिरीज़ की दिशा

टीम इंडिया इमेज कॉपीरइट Getty

एडिलेड में पिछले टी-ट्वंटी मुक़ाबले में ऑस्ट्रेलिया को 37 रन से मात देने वाली भारतीय क्रिकेट टीम अब दूसरे मैच में शुक्रवार को मेलबर्न में बुलंद हौंसलो के साथ मैदान में उतरेगी.

एक और जीत के साथ ही भारत के पास मेलबर्न में ही तीन मैचों की इस सिरीज़ को अपने नाम करने का अवसर भी होगा.

पहले मैच में भारत ने विराट कोहली के केवल 55 गेंदों पर 9 चौके और दो छक्कों की मदद से निर्धारित 20 ओवर में तीन विकेट खोकर 188 रन बनाए.

उनके अलावा सलामी बल्लेबाज़ रोहित शर्मा ने 20 गेंदों पर 31 और सुरेश रैना ने 34 गेंदों पर 41 रन बनाए.

विराट कोहली और टीम में वापसी कर रहे सुरेश रैना ने तीसरे विकेट के लिए 134 रन जोड़े.

इन दोनों के बीच 100 रन तो केवल 68 गेंदों पर बने.

इनमें विराट कोहली ने 68 और सुरेश रैना ने 26 रनों का योगदान दिया.

इमेज कॉपीरइट AP

यह साझेदारी मैच में निर्णायक साबित हुई और भारतीय गेंदबाज़ों को ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बनाने का अवसर मिल गया.

हालांकि जीत के लिए 189 रनों का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने भी दमदार शुरुआत की.

कप्तान एरन फिंच और डेविड वार्नर ने पहले विकेट के लिए 5.1 ओवर में 47 रन बनाए.

इसके बाद जैसे ही 89 के स्कोर पर ऑस्ट्रेलिया ने स्टीव स्मिथ के रूप में दूसरा विकेट खोया उसके बाद वह संभल नहीं पाया.

नियमित अंतराल पर भारत के गेंदबाज़ विकेट चटकाते रहे और अंतत: ऑस्ट्रेलिया की पूरी पारी 19.3 ओवर में 151 रन पर ही सिमट गई.

अपना पहला टी-ट्वंटी खेल रहे तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ने केवल 23 रन देकर तीन विकेट लिए और जीत में अपनी अहम भूमिका निभाई.

उनके अलावा हार्दिक पांड्या ने भी अपना पहला टी-ट्वंटी मुक़ाबला खेला.

इमेज कॉपीरइट AFP

वह थोड़े महँगे साबित हुए लेकिन दो विकेट झटकने में कामयाब रहे.

अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ आशीष नेहरा ने भी निराश नहीं किया और उन्होंने 30 रन देकर एक विकेट लिया.

रविंद्र जडेजा और आर अश्विन ने भी दो-दो विकेट लेकर टीम का काम आसान किया.

इसके साथ ही भारत अपने इस दौरे पर पहली बार ऑस्ट्रेलिया को किसी मैच में ऑलआउट करने में कामयाब रहा.

इससे पहले भारत एकदिवसीय सिरीज़ में 4-1 से हारा था. अंतिम एकदिवसीय मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को छह विकेट से मात दी थी.

एडिलेड में भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पहली ही गेंद पर हैलिकॉप्टर शॉट से एक छक्का लगाकर अपनी पुरानी रंगत दिखाई. वह तीन गेंदों पर 11 रन बनाकर नाबाद रहे.

अगर भारतीय गेंदबाज़ ऐसे ही कमाल करते रहे तो फिर भारत से बचे हुए दो मैचों में भी जीत की उम्मीद की जा सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार