क्यों हार गया पाकिस्तान, 5 कारण

इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तान की टीम एक कम स्कोर वाले मैच में आख़िरकार पाँच विकेट से हार गई. पाकिस्तान की टीम सिर्फ़ 83 रन पर आउट हो गई थी. लेकिन भारत ने 84 रनों का लक्ष्य हासिल करने के लिए पाँच विकेट गँवा दिए. आइए पाकिस्तान की हार के पाँच कारणों पर नज़र डालते हैं.

टॉस

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के कप्तान शाहिद अफ़रीदी के टॉस हारते ही भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने फ़ील्डिंग चुनी. जो भारत के लिए वरदान साबित हुई. हालांकि शाहिद अफ़रीदी का ये कहना था कि वे टॉस जीतते भी तो पहले बल्लेबाज़ी करते. ख़ैर टॉस हारते ही पाकिस्तान ने पहली बाज़ी गँवा दी.

विकेट

इमेज कॉपीरइट AFP

शुरू से ही विकेट तेज़ गेंदबाज़ों को मदद कर रही थी. इसका फ़ायदा भारतीय गेंदबाज़ों को भी मिला. जबकि भारतीय तेज़ गेंदबाज़ भी उतनी तेज़ गति से गेंद नहीं करते. लेकिन विकेट के कारण गेंदबाज़ों को स्विंग कराने में मदद मिली और बल्लेबाज़ घूमती गेंदों के झांसे में कई बार आ गए.

साझेदारी

इमेज कॉपीरइट AFP

वैसे तो ये विकेट बल्लेबाज़ों के लिए मुश्किल थी. लेकिन भारत और पाकिस्तान की टीम में एक बड़ा अंतर साझेदारी का था. भारत की टीम ने भी तीन विकेट जल्द गँवा दिया था. लेकिन विराट कोहली और युवराज सिंह की साझेदारी भारत के काम आई. वहीं पाकिस्तान का कोई बल्लेबाज़ अच्छी साझेदारी नहीं कर पाया.

विराट कोहली

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ मैच में अपने अच्छे रिकॉर्ड के लिए चर्चित विराट कोहली ने एक बार फिर दबाव में न खेलते हुए संयम दिखाया और जम कर बल्लेबाज़ी भी की. उन्होंने 49 रनों की पारी खेली. कम स्कोर के मैच में उनकी ये पारी पाकिस्तान के लिए भारी पड़ा.

मनोवैज्ञानिक दबाव

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के ख़िलाफ़ बड़े टूर्नामेंट में जीत न हासिल करने का जिन्न पाकिस्तान को इस मैच में भी परेशान करता रहा. कहीं न कहीं खिलाड़ी मनोवैज्ञानिक दबाव में दिखे. कप्तान अफ़रीदी समेत दो खिलाड़ियों को रन आउट होना इसका उदाहरण था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)