युवराज की जगह कौन, रहाणे-पांडेय या नेगी

युवराज सिंह इमेज कॉपीरइट AFP

गुरूवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में भारत और वेस्ट इंडीज़ के बीच वर्ल्ड टी-20 का दूसरा सेमी फाइनल खेला जाएगा.

इसी बीच भारत के युवराज सिंह इस विश्व कप से अपनी चोट के कारण बाहर हो गए हैं.

उनकी जगह मनीष पांडेय को टीम में शामिल किया गया है.

युवराज सिंह चोटिल होने से पहले इस विश्व कप ही नही बल्कि ऑस्ट्रेलिया में खेली गई टी-20 सिरीज़ और उसके बाद बांग्लादेश में खेले गए एशिया कप टी-20 टूर्नामेंट में भी भारतीय टीम का अहम हिस्सा थे.

अब बड़ा सवाल यही है कि वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ सेमी फ़ाइनल में युवराज की जगह कौन लेगा.

अजिंक्य रहाणे, मनीष पांडेय या फिर पवन नेगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

1. अगर अजिंक्य रहाणे खेलते है तो वह मघ्यम क्रम में उपयोगी बल्लेबाज़ के अलावा बेहतरीन नज़दीकी फिल्डर भी हैं.

लेकिन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी लगातार कहते रहे हैं कि रहाणे स्ट्राइक को रोटेट नहीं कर पाते और आखिरी ओवर में चौके-छक्के या बड़े शॉट्स लगाने की क्षमता नहीं रखते.

रहाणे अपना अंतिम अंतराष्ट्रीय टी-20 मुक़ाबला ढाका में एशिया कप में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ खेले थे.

तब वह अपना खाता भी नही खोल सके थे. इससे पहले वह भारत में श्रीलंका के ख़िलाफ़ तीन टी-20 मैच खेले थे.

उन्होनें विशाखापत्तनम में नाबाद 22, रांची में 25 और पुणे में चार रन बनाए थे.

इमेज कॉपीरइट AP

2. अगर मनीष पांडेय खेलते है तो वह अपनी तेज़ तर्रार पारी से गेंदबाज़ों की लय बिगाड़ने की क्षमता रखते है.

उन्हें भारत के लिए ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ सिडनी में पांचवां और आखिरी एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय मैच खेलने का मौक़ा मिला.

उन्होनें केवल 81 गेंदों पर नाबाद 104 रन बनाकर भारत को तब जीत दिलाई जब उसके सामने जीत के लिए 331 रनों जैसा बडा लक्ष्य था.

उन्हे पिछले साल ज़िम्बॉब्वे के ख़िलाफ़ दो टी-20 मैच खेलने का मौक़ा मिला जहां उन्होनें हरारे में 0 और 19 रन बनाए.

मनीष पांडेय के पास आईपीएल मैचों का बड़ा अनुभव है.

इमेज कॉपीरइट BCCI

3. पवन नेगी पिछले दिनों तब रातों-रात स्टार बन गए जब आईपीएल की नीलामी में वह सबसे महंगे बिकने वाले भारतीय खिलाडी बने.

चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेल चुके पवन नेगी खब्बू लेग स्पिनर के अलावा ज़रूरत के समय चौके-छक्के लगा सकते है.

वह अपना एकमात्र अंतराष्ट्रीय टी-20 मैच एशिया कप में संयुक्त अरब अमीरात के ख़िलाफ़ खेलें जहां उन्होनें 16 रन देकर एक विकेट हासिल किया.

अब यह तो धोनी की पसंद पर निर्भर है कि वह किसे अंतिम ग्यारह में खेलने का अवसर देते है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार