लारा का वो करिश्मा जो 12 साल से अटूट है

ब्रायन लारा इमेज कॉपीरइट AFP

ब्रायन लारा ने ठीक 12 साल पहले 12 अप्रैल, 2004 को एंटीगुआ में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टेस्ट क्रिकेट की सबसे बड़ी पारी खेली थी - नाबाद 400 रन की.

लारा ने तब ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ मैथ्यू हेडन के 380 रनों की पारी को पीछे छोड़ा था और अपने 400 रन पूरा होते ही टीम की पारी समाप्ति की घोषणा कर दी थी.

ब्रायन लारा उस टेस्ट में वेस्ट इंडीज़ के कप्तान भी थे. उन्होंने टेस्ट जीतने के ख्याल से पारी समाप्ति की घोषणा की थी, लेकिन इंग्लैंड ये टेस्ट ड्रॉ कराने में कामयाब रहा था.

उन्होंने अपनी पारी में 582 गेंदों का सामना किया था, 43 चौके और चार छक्के लगाए थे.

इस ऐतिहासिक पारी के दौरान लारा ने अपना 400वां रन भले सिंगल से पूरा किया था, लेकिन मैथ्यू हेडन के स्कोर को उन्होंने जोरदार अंदाज़ में पीछे छोड़ा था.

इमेज कॉपीरइट AP

उन्होंने गैरेथ बैट्टी के गेंद लाँग ऑन पर छक्के के लिए भेजकर हेडन के 380 रन की बराबरी की थी और अगली गेंद पर फ़ाइन लेग पर चौका लगाकर उन्होंने हेडन के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया था.

ख़ास बात ये थी लारा इससे पहले इंग्लैंड के ख़िलाफ़ इसी मैदान पर 1994 में 375 रनों की पारी खेल चुके थे.

यानी टेस्ट में 400 रन की पारी खेलने से दस साल पहले भी लारा टेस्ट की सबसे बड़ी पारी खेलने का रिकॉर्ड बना चुके थे.

2003 में मैथ्यू हेडन ने ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ 380 रनों की पारी खेल दी तो लारा ने दस साल बाद फिर से नया इतिहास बना दिया.

टेस्ट क्रिकेट का ऐसा इतिहास जो आज तक अटूट है. बीते 12 सालों में एक मौके को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज़ ब्रायन लारा के रिकॉर्ड के आसपास तक नहीं पहुंचा.

इमेज कॉपीरइट PA

जुलाई, 2006 में श्रीलंकाई बल्लेबाज़ महेला जयवर्धने ने कोलंबो में दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ़ 374 रनों की पारी जरूर खेली थी, लेकिन इस मौके को छोड़ दें तो बीते 12 साल में कोई बल्लेबाज़ 350 रन के करीब तक नहीं पुहंच पाया है.

वैसे लारा 400 रनों तक नहीं पहुंच पाते, अगर इंग्लैंड की ओर से डेब्यू कर रहे विकेटकीपर गैरिएंट जोंस ने 359 रन के स्कोर पर लारा का मुश्किल सा कैच लपक लिया होता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार