इंटरव्यू के दौरान घबराहट पर काबू कैसे पाएं

इमेज कॉपीरइट Alamy

जब हम इंटरव्यू के लिए जाते हैं तो बहुत नर्वस होते हैं. कई बार ये घबराहट हम पर इतनी भारी पड़ती है कि हमारे हाथ में आई नौकरी निकल जाती है.

अक्सर लोग ये सोचते हैं कि अच्छा सीवी, अच्छा प्रेज़ेंटेशन और सवालों के सही जवाब देने से नौकरी मिल जाएगी.

लेकिन अगर आपकी बॉडी लैंग्वेज में घबराहट है तो बहुत मुमकिन है कि शानदार रिज़्यूमे होने के बावज़ूद नौकरी आपको न मिले.

नौकरी के इंटरव्यू में अक्सर लोगों के हाव-भाव और संकेत देखे जाते हैं. हाव-भाव आपके मिज़ाज के बारे में बहुत सी बातें कह जाते हैं.

कई बार ये सामने वाले को ऐसी बातें भी बता जाते हैं जिन्हें आप छुपाना चाहेंगे. सबसे बड़ी बात ये कि अक्सर हम ये जान ही नहीं पाते कि हम अपने हाव-भाव से अपनी कमज़ोरी ज़ाहिर करते हैं.

जान-बूझकर या अनजाने में बार-बार अपनी पलकें खोलना-बंद करना, अपनी अंगूठी घुमाने या बाल छूने जैसी हरकतें, आप पर भारी पड़ सकती हैं.

जर्मनी के फ़्रैंकफ़र्ट शहर में इमेज सलाहकार इज़ाबेल शुर्मन कहती हैं कि आप सिर्फ़ ज़ुबान से संवाद नहीं करते. आपका शरीर भी बोलता है.

इमेज कॉपीरइट Alamy

इंटरव्यू के दौरान अगर आप सामने वाले से आंख मिलाकर बात नहीं करते तो इसका ये मतलब निकाला जा सकता है कि आप भरोसे के क़ाबिल नहीं.

अगर आप दोनों पैर जोड़कर बैठते हैं तो ये संदेश जाता है कि आप असुरक्षित महसूस करते हैं.

अमरीका के मिलवाकी शहर में नौकरी की तलाश कर रहे दो युवाओं ने कई बार नाकामी के बाद एक कोच से संपर्क किया. फिर जब उन्हें अपने इंटरव्यू के वीडियो दिखाए गए तो वो ख़ुद हैरान रह गए.

उन दोनों युवकों को ट्रेनिंग देने वाली जैनिस बर्च बताती हैं कि जब वीडियो के ज़रिए, उन युवकों को उनके हाव-भाव की कमियां बताई गईं, तो, उन्हें यक़ीन ही नहीं हुआ.

वो दोनों ही इंटरव्यू के दौरान लगातार सिर हिला रहे थे. उन्होंने कम से कम तीन सौ बार हामी भरने के लिए सिर झुकाया.

इससे संकेत मिला कि वो जी-हुज़ूरी में यक़ीन रखते हैं. हर इंटरव्यू में ऐसा ही होने की वजह से उन्हें नौकरी मिलनी मुश्किल हो रही थी.

इमेज कॉपीरइट Alamy

जैनिस बर्च ऐसे लोगों की मदद करती हैं जो करियर में आगे बढ़ने के लिए बेक़रार हैं. वो उन्हे ऐसे ही वीडियो दिखाकर, हाव-भाव की कमियां बताती हैं. फिर उन्हें सुधारने की टिप्स देती हैं.

अच्छी बात ये है कि आप अपने इन ग़लत हाव-भावों से छुटकारा पा सकते हैं. शर्त ये है कि आपका इरादा पक्का हो.

सबसे पहले तो आपको अपनी आदतों के बारे में पता करना होगा. फिर उन गड़बड़ियों को दूर करना होगा जो आपको नुक़सान पहुंचा सकती हैं.

घबराहट होने पर आप ख़ुद ही किसी इंटरव्यू करने वाले से बात करने का अभ्यास कर सकते हैं. जैसे, बहुत से लोगों को उंगलियां चटखाने की आदत होती है.

ये आदत आपकी घबराहट का संकेत देती है. इस आदत पर आसानी से क़ाबू पाया जा सकता है.

कुछ लोगों के अंदर सामने वाले से आंख झुकाकर बात करने की आदत होती है. ध्यान देकर इस आदत से भी छुटकारा पाया जा सकता है.

जानकार सलाह देते हैं कि बुरी आदतों को मानना, उनसे छुटकारा पाने की पहली शर्त होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डेनिएला लेहमन स्टीन, फ्रैंकफर्ट की एक कंपनी में ही एचआर टीम की प्रमुख हैं. वो बताती हैं कि जब उन्हें इंटरव्यू लेने की ट्रेनिंग दी जा रही थी, तो उन्हें लोगों के हाव-भाव से उनके किरदार के बारे में समझने के नुस्खे भी बताए गए.

हालांकि डेनिएला कहती हैं कि वो सिर्फ़ किसी के हाव-भाव के आधार पर नौकरी देने, न देने का फ़ैसला नहीं करतीं. मगर किसी की आदतें, उसके नौकरी पाने में अहम रोल निभाती हैं.

डेनिएला कहती हैं कि बहुत से लोग ख़ुद को आज़ाद ख़याल, बेहद खुले दिमाग़ वाला बताते हैं. मगर वो हाथ बांधकर, पैर इकट्ठे करके बैठते हैं. साफ़ है कि वो झूठ बोल रहे होते हैं.

वैसे डेनिएला मानती हैं कि किसी की बुरी आदत हो और वो खुलकर इसे माने तो उसकी ईमानदारी अच्छी मानी जाती है. जैसे किसी को खुजली करने की आदत हो. इससे चकत्ते पड़ जाते हों, तो, वो हंसी-हंसी में इसका ज़िक्र इंटरव्यू के दौरान करके, सामने वाले का भरोसा जीत सकता है.

अमरीका की जैनिस बर्च करती हैं कि घबराहट अक्सर मनोवैज्ञानिक वजहों से होती है. अगर आपको वो वजह मालूम हो जाए, तो उस पर क़ाबू पाना आसान हो जाता है.

कई बार इंटरव्यू की अच्छी तैयारी न होने पर भी लोग नर्वस होते हैं. अगर आपको ये पता है तो आप अच्छे से तैयारी कर लीजिए. इससे आपकी आधी से ज़्यादा मुश्किल आसान हो जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Alamy

इंटरव्यू की तैयारी अच्छी होगी तो आप अपने हाव-भाव से ज़्यादा, अपनी बातों से अच्छा असर छोड़ पाएंगे. आख़िर सामने वाले को इस बात से क्या फ़र्क पड़ता है कि आप अपने हाथ कितनी बार रगड़ते हैं. उसे तो आपकी क़ाबिलियत परखनी होती है.

डेनिएला भी कहती हैं कि किसी को उसके सिर्फ़ एक हाव-भाव से परखना उस इंसान के साथ नाइंसाफ़ी होगी. इसके लिए कम से कम पांच आदतों पर ग़ौर फरमाना चाहिए.

डेनिएला ने हाल ही में बॉडी लैंग्वेज समझने की ट्रेनिंग ली है. वो कई बार नौकरी के लिए आए शख़्स से जान-बूझकर सवाल करती हैं कि मुझे आपके चेहरे पर असमंजस का भाव दिखा या क्या आपको बात समझ में नहीं आई?

इस तरह वो सामने वाले की ख़ूबियां और कमियां जानने की कोशिश करती हैं.

आख़िर में किसी को नौकरी मिलेगी या नहीं, ये सिर्फ़ हाव-भाव पर नहीं निर्भर करता. इसका फ़ैसला उसकी क़ाबिलियत, उसकी पैसे की मांग जैसी और भी अहम बातों पर निर्भर करता है.

इमेज कॉपीरइट Alamy

मगर घबराहट और बुरे हाव-भाव पर क़ाबू पाने के लिए आप कुछ नुस्खे आज़मा सकते हैं-

1. बार-बार हामी भरने के लिए सिर न हिलाएं. इससे सामने वाले को लगता है कि आप जी-हुज़ूरी और चापलूसी करने वाली जमात से हैं

2. बार-बार आप अपने पैरों को आपस में जोड़कर, या, एक-दूसरे पर चढ़ाकर न बैठें. पैर को लगातार हिलाएं भी नहीं. इससे आपकी घबराहट साफ़ ज़ाहिर होती है

3. अपने होंठ न बंद रखें और न ही चबाएं. इससे लगता है कि आप पूरी तैयारी के साथ इंटरव्यू के लिए नहीं आए हैं.

4. इंटरव्यू के दौरान आंखों ही आंखों में पूरे कमरे का मुआयना करने से बचें. इससे संकेत जाता है कि आपका ध्यान इंटरव्यू पर नहीं है.

5. लगातार बैठे रहने से गर्दन दर्द होने लगती है. मगर इंटरव्यू के दौरान गर्दन को घुमाकर ख़ुद को रिलैक्स करने की कोशिश बिल्कुल न करें. ये बेहूदा हरकत मानी जाएगी

इन नुस्खों की मदद से आप अपने अगले इंटरव्यू को बेहतर बना सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)