कुछ लोग हमेशा लेट क्यों रहते हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्वीकारोक्ति: मैं देर करनेवाला व्यक्ति हूँ. कम से कम उस मामले में तो हूं ही जिससे कुछ लिया जाना हो. वास्तव में इस लेख को तय समय पर देने में मुझसे लगातार देर होती रही जिससे शर्मिंदगी भी हुई. ये बहाना बनाने में मुझे बहुत अच्छा लगता कि यह 'शैली' अभिनय की पत्रकारिता का एक रूप है. लेकिन ऐसी बात नहीं है.

मुझे मालूम है कि मैं अकेला ऐसा नहीं हूँ. हम सभी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं: बच्चों का ध्यान रखनेवाले हमेशा लेट आते हैं, आपका कोई सहयोगी जो हर बार तयशुदा वक़्त पर काम ख़त्म नहीं कर पाता, भले ही कुछ घंटों की देरी करे, लंच पर पहुंचने के लिए किसी दोस्त को समय से 30 मिनट पहले आने के लिए आपको कहना पड़ता है.

ये हैं बॉलीवुड के लेट लतीफ़

कुछ ऐसी आदतें होती हैं जिससे आप एकदम ग़ुस्सा जाएंगे ठीक वैसे ही जब आपको कोई इंतज़ार करवाता है. लेकिन जब आपको कोई इंतज़ार करवा रहा है भले ही उस समय आपके दिमाग़ में कुछ भी चल रहा हो लेकिन ज़रूरी नहीं ऐसा है कि आपके दोस्त और सहयोगी स्वार्थी हों. देर करनेवालों के मनोविज्ञान को अगर आप देखें तो आपको एक ऐसे दिमाग की झलक दिखेगी जो ठीक से काम नहीं कर रहा हो. लेकिन वहां भी दुरुस्त करने के लिए कई चीज़ें होती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

देर करनेवाले लोग असभ्य और आलसी नहीं होते

समय से नहीं आनेवाले लोगों के बारे में धारणा ज़्यादातर नकारात्मक होती है.

हेरिएट मेलॉट एक संज्ञानात्मक व्यवहार चिकित्सक हैं और लंदन में नैदानिक मनोवैज्ञानिक के तौर पर प्रशिक्षण ले रही हैं. मेलॉट कहती हैं, "उनके बारे में ये अनुमान लगा लेना बहुत आसान है कि वे अव्यवस्थित, अराजक, असभ्य हैं और दूसरों के बारे में ध्यान नहीं देती."

"मेरी क्लीनिक में आनेवालों के अलावा किसी और के लेट करने पर मैं ख़ासी नाराज़ हो जाती हूँ."

पुतिन इतने लेट लतीफ़ क्यों हैं

लेकिन देर करनेवाले कई लोग कम से कम कुछ हद तक व्यवस्थित होते हैं और दोस्तों, परिवार और बॉस को ख़ुश रखना चाहते हैं. समय की पाबंदी की समझ से महरूम लोग अक्सर इस बात को समझते हैं और उन्हें बहुत तकलीफ़ और शर्मिंदगी होती है कि उनके देर से आने की वजह से उनके संबंधों, प्रतिष्ठा, करियर और पैसों का कितना नुकसान हो सकता है.

डायना डीलोंज़र अपनी किताब 'नेवर बी लेट अगेन' में लिखती हैं, "कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्हें दूसरों को इंतज़ार कराने में मज़ा आता है. अगर आप विशिष्ट हैं तो आपको लेट होना बुरा लगेगा. फिर भी आलस्य आपके लिए अभिशाप बना रहता है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बहाने-बहाने

कुछ बहाने, ख़ासतौर से बहुत देर हो जाने पर, दुनियाभर में मान लिए जाते हैं - जैसे दुर्घटना या तबीयत ख़राब होना. लेकिन दूसरे बहानों को मान लेना इतना आसान नहीं होता. लेट करनेवाले कुछ लोग समय के पाबंद होने की बजाए इसे बड़ी सोच और बड़े मुद्दों के लक्षण बताकर टाल देते हैं. वे अपनी लच्छेदार प्यारी बातों या बहुत दबाव में बेहतरीन काम करने की बात कहकर या फिर सुबह-सवेरे उठने की बजाए उल्लू की तरह देर रात तक जागने की आदत कहकर देर से आने की बात से पल्ला झाड़ देते हैं.

लंदन में एक शिक्षिका जोआना कहती हैं कि देर से आने की उनकी छवि कई बार सोच में फ़र्क़ के कारण भी बन जाती है. वे बताती हैं, "कोई दोस्त आने के लिए कहता है और वो बोलता है कि सात के 'बाद कभी भी आ जाओ'. लेकिन अगर मैं आठ या उसके बाद जाती हूँ तो वे नाराज़ हो जाता है."

हमेशा लेट रहना हो सकता है आपकी ग़लती न हो. हो सकता है कि आप वैसे ही हों. विशेषज्ञों का कहना है कि समय की पाबंदी की समझ से महरूम लोगों के व्यक्तित्व के गुण अक्सर एक जैसे होते हैं, जैसे आशावाद, संयम और व्यग्रता की कमी होना या रोमांच की चाह होना. व्यक्तित्व में अंतर ये भी बता सकता है कि हम समय के गुज़रने का किस तरह से अनुभव करते हैं.

साल 2001 में सैन डियेगो विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के प्रोफेसर जेफ़ कोंट ने एक अध्ययन किया जिसमें उन्होंने प्रतिभागियों को दो हिस्से में बांटा- टाइप ए (महत्वाकांक्षी, प्रतिस्पर्धी) और टाइप बी (रचनात्मक, चिंतनशील, खोजी). उन्होंने उनसे बिना घड़ी के यह बताने को कहा कि एक मिनट बीतने में कितना समय लगता है. टाइए ए के लोगों को जब लगभग 58 सेकेंड बीत चुके थे तब लगा कि एक मिनट ख़त्म हो गया है. टाइप बी के प्रतिभागियों को 77 सेकेंड के बाद लगा कि एक मिनट का समय बीत चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आप अपने सबसे बड़े शत्रु हैं

मशहूर टीईडी शो में वक्ता रहे और ख़ुद को लेट करने वाला बताने वाले टीम अर्बन ने 2015 में लिखा था कि लेट करने वाले लोगों में "ख़ुद को हराने का एक अजीब दबाव होता है." उन्होंने इन अभागे लोगों को एक नाम दिया: सीएलआईपी (क्लिप) यानी हमेशा लेट करनेवाले पागल लोग.

बेशक लेट होने के लिए कई और कारण होते हैं, लेकिन बहुत से ख़ुद से थोपे हुए होते हैं. शुरुआती तौर पर या ब्योरों पर बहुत ज़्यादा ध्यान देने से भी लेट होने की आशंका होती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जोआना कहती हैं कि स्कूल रिपोर्ट लिखना सबसे परेशान करनेवाला उदाहरण है. वे बताती हैं, "मैं कभी भी समय सीमा तय नहीं करती हूं जिससे ऐसा लगता है कि मैं परवाह नहीं करती हूँ. मैं रिपोर्ट के बारे में हफ़्तों विचार करती हूँ और हरेक बच्चे के आकलन में वास्तव में सोचने की ज़हमत उठाती हूँ. लेकिन इन रिपोर्ट्स में देरी होती जिससे इन्हें नज़रअंदाज़ किया जा सकता है."

मेलॉट कहती हैं कि कुछ लोगों के लिए देर करना, " बहुत चिंताजनक मानसिक स्वास्थ्य या न्यूरोलॉजिकल स्थिति है."

अपने दिमाग़ को दुरूस्त कीजिए, समय पर रहिए?

न्यूयॉर्क में मनोचिकित्सक और 'हाउ टू बीट प्रोक्रैस्टिनेशन इन द डिजीटल एज' किताब की लेखिका डॉ. लिंडा सैपाडिन कहती हैं- लगातार लेट होना "आसक्त होकर सोचने की समस्या" से पैदा होता है.

वे कहती हैं कि टालमटोल करनेवाले जिस काम या समय सीमा से लेट हो रहे होते हैं उससे जुड़े डर पर सारा ध्यान लगा देते हैं. बजाए इसके कि उस डर से कैसे निकला जाए. वो डर ही उनका बहाना बन जाता है, जो आमतौर पर 'लेकिन' जैसे वाक्यों से बयां होता है. उदाहरण के लिए, वे समझाती हैं कि आप खुद से कह सकते हैं, "मैं फलां कार्यक्रम पर समय से पहुंचना चाहता था, लेकिन मैं तय नहीं कर पाया कि मुझे क्या पहनना चाहिए; मैंने एक लेख लिखना शुरू किया, लेकिन मुझे डर था कि शायद यह मेरे साथियों को बहुत पसंद नहीं आए."

लेट लतीफ़ी से छुटकारा नहीं

सैपाडिन कहती हैं, "लेकिन के बाद जो कुछ भी आता है उसका एक मतलब होता है. वे लोगों से कहती हैं कि 'लेकिन' शब्द को 'और' से बदल डालो. वे समझाती हैं, 'लेकिन' शब्द विरोध और रूकावट को दर्शाता है; 'और' शब्द जुड़ाव और समाधान को दर्शाता है. जिससे काम कम चुनौतीपूर्ण हो जाता है और रूकावटों का डर कम हो जाता है.

डीलोंज़र ने समय की पाबंद बनने के रास्ते में सबसे पहले उस चीज़ को खोजना और समझना शुरू किया जिसकी वजह से उन्हें लगता था कि वे लेट हो जाती हैं. वे कहती हैं कि ऐसा तब हो पाया जब वे समय से पहुंचने की बार-बार कोशिश करने पर भी विफल हो जा रही थीं. फिर इसके बाद उन्हें एहसास हुआ कि उन्हें हड़बड़ी के रोमांच में बहुत मज़ा आता था. जिस चीज़ में उन्हें मज़ा आता था उसे बदलकर ही वे सुधर सकती थीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

डीलोंज़र कहती हैं, "जैसे ही मैंने समय पर रहने के लक्ष्य को पाने की दिशा में कोशिश की, मुझे एक भरोसेमंद व्यक्ति होने के महत्व का एहसास हुआ. अपने व्यक्तित्व के इस पक्ष को और अच्छा बनाना मेरी प्राथमिकता हो गई."

फिर ऐसे भी दोस्त और क़रीबी लोग होते हैं जो और बर्दाश्त नहीं कर सकते. सैपाडिन के कुछ ग्राहक ऐसे भी थे जिनके निराश हो गए परिजनों ने अपने पैसों से उनके पास एक सत्र या पाठ्यक्रम के लिए भेजा था.

जो अब भी इंतज़ार कर रहे हैं उनके लिए उम्मीद बची हुई थी. आप भी ये बता सकते हैं कि आप बर्दाश्त करने के लिए कितने तैयार हैं.

वे कहती हैं, "ग़ुस्सा और दुखी होने की बजाए आप निश्चय कीजिए और अपने लक्ष्य तय कीजिए. अगर सामने वाला व्यक्ति समय पर नहीं है तो बताइए कि आप क्या करेंगे." उदाहरण के लिए अपने लेट हो गए दोस्त से कहिए कि अगर वे 10 मिनट से ज़्यादा देर करते हैं तो आप उसके बिना ही फ़िल्म देखने चले जाएंगे. प्रोजक्ट के अपने हिस्सा का काम जो कभी भी समय से पूरा नहीं करते हैं अपने उस सहयोगी से कहिए कि अगली बार से उनके काम को शामिल नहीं किया जाएगा और बॉस को इसके बारे में पता चल जाएगा.

मेरे लिए बदलाव की घड़ी वो थी जब एक अच्छी दोस्त ने लक़ीर खींच दी. स्थानीय पार्क में दौड़ने के लिए मैं करीब एक घंटे देरी से पहुंची. उसने कहा कि बस बहुत हो चुका. वो आगे से मेरे साथ अब कोई प्लान नहीं बनाएंगी. और इस तरह उसने मेरे लिए सबसे अच्छी बात तय कर दी - जवाबदेही और मौजूद समस्याओं को पहचनाना और उनका समाधान ढूंढना जिसकी वजह से मैं हमेशा लेट हो जाती थी.

जैसी कि कहावत है- पुरानी आदतें जल्दी नहीं छूटतीं और इस लेख की वजह से हुई तक़लीफ उसका सबसे अच्छा उदाहरण है. लेकिन अगली बार से अगर मैं किसी को इंतज़ार करवाऊंगा, तो मैं अपनी सोच से रूबरू होऊंगा और उसे बदलने की कोशिश करूंगा, भले ही थोड़ा भी बदल पाऊं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)