लुप्तप्राय गैंडों का बसेरा है पटना का चिड़ियाघर

  • 22 सितंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption एक सींग वाले गैंडों का बसेरा है संजय गांधी जैविक उद्यान

पटना का संजय गांधी जैविक उद्यान लुप्तप्राय जानवरों की श्रेणी में शामिल एक सींग वाले गैंडों का बसेरा बना हुआ है. यहां ऐसे दस गैंडे हैं.

चिड़ियाघर के निदेशक नंद किशोर के मुताबिक़ अमरीका के कैलिफोर्निया स्थित सैन डिएगो चिड़ियाघर में इस प्रजाति के सबसे अधिक ग्यारह गैंडे हैं.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption एक सींग वाले गैंडों को विलुप्त प्राय जीवों की श्रेणी में रखा गया है

पटना के चिड़ियाघर में मौजूद दस में से पांच नर और पांच मादा गैंडे हैं. इनमें से दो अभी शावक हैं. पिछले साल यहां एक गैंडे की मौत एंथ्रेक्स से हो गई थी.

इस चिड़ियाघर में भारतीय गैंडों के अलावा गैंडों की दूसरी प्रजातियां भी मौजूद हैं.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption पटना चिड़ियाघर में एक सींग वाला गैंडा

पटना चिड़ियाघर में मई 1979 में एक जोड़ा गैंडा लाया गया था और अगस्त 1988 में यहां पहले गैंडे हड़ताली का जन्म हुआ था.

मादा गैंडे हड़ताली ने 2012 तक कुल आठ बच्चों को जन्म दिया है, हड़ताली अभी भी जैविक उद्यान का हिस्सा है.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption माकूल वातावरण नहीं होने के बावजूद पटना चिड़ियाघर में फल फूल रहे है एक सींग वाले गैंडे

साल 2007 में ''नस्ल सुधार" को बढ़ावा देने वाले 'एक्सचेंज प्रोग्राम' के तहत सैन डिएगो चिड़ियाघर से एक मादा गैंडा गैरी पटना जू लाई गई थी. साल 2009 में गैरी ने एक नर गैंडे एलेक्शन को जन्म दिया. ये दोनों भी अभी जू का हिस्सा हैं.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption पटना चिड़ियाघर में पांच नर और पांच मादा गैंडे हैं

ज़ू के पास अब गैंडों की 'चार ब्लड लाइन' मौजूद है. ज़ू के मुताबिक़ ऐसा शायद ही किसी दूसरे चिड़ियाघर में उपलब्ध हो. ज़ू प्रशासन की योजना आने वाले दिनों में यहां पर गैंडों का 'कंजर्वेशन ब्रीडिंग सेंटर' शुरु करने की है.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption असम का बाशिंदा गैंडा पटना में रच बस गया

22 सितंबर को विश्व गैंडा दिवस मनाया जाता है. इस मौक़े पर पटना ज़ू में भी कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Biharpictures.com
Image caption पटना चिड़ियाघर मे दूसरी प्रजातियों के गैंडे भी हैं

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार