मोदी ने गिनाए कांग्रेसी नेताओं के 'अभद्र बयान', कांग्रेस बोली- मुद्दाविहीन हैं पीएम

  • 9 दिसंबर 2017
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Reuters

कांग्रेस पार्टी से निलंबित हो चुके मणिशंकर अय्यर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'नीच' कहने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है.

हालांकि कांग्रेस ने गुरुवार को मणिशंकर अय्यर को 'कारण बताओ नोटिस' जारी करते हुए पार्टी से निलंबित कर दिया. इससे पहले राहुल गांधी के कहने पर मणिशंकर अय्यर ने अपने बयान पर माफ़ी भी मांगी थी.

लेकिन शुक्रवार को निकोल में एक चुनावी रैली के दौरान नरेंद्र मोदी ने इस मुद्दे को उठाया और कहा कि कांग्रेस ने पहली बार उन्हें नीच नहीं कहा है.

मोदी ने कहा, "सोनिया गांधी और उनके परिजनों ने भी इस शब्द का इस्तेमाल किया है. मैं नीच इसलिए हूँ, क्योंकि मैं ग़रीब पैदा हुआ था, क्योंकि मैं नीची जाति का हूँ और क्योंकि मैं एक गुजराती हूँ. क्या इसलिए वे मुझसे नफ़रत करते हैं?"

गुजरात चुनाव से ठीक पहले बीजेपी सांसद ने दिया झटका

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'कांग्रेसी पहले भी करते रहे अभद्र भाषा का इस्तेमाल'

इतना ही नहीं चुनावी रैली के दौरान पीएम मोदी ने दावा किया कि कांग्रेस के कई नेताओं ने उनके ख़िलाफ़ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया है.

नरेंद्र मोदी ने कहा, ''आनंद शर्मा ने कहा था कि पीएम मोदी मानसिक तौर पर अस्थिर हैं. एक कांग्रेसी नेता ने तो ऐसे ट्वीट को री-ट्वीट किया था, जिसके बारे में मैं कुछ कह तक नहीं सकता. दिग्विजय सिंह ने मेरे बारे में क्या ट्वीट किया? दरअसल एक गुजराती और एक गरीब परिवार में जन्मे व्यक्ति से उन्हें काफ़ी परेशानी है.''

दूसरी ओर गुजरात में कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता मनीष दोशी ने बीबीसी से बातचीत में कहा, ''नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ ख़राब भाषा का इस्तेमाल कांग्रेस की संस्कृति में नहीं है. इसी वजह से राहुल गांधी ने मणिशंकर अय्यर को पार्टी से निलंबित किया था. लेकिन इससे पहले नरेंद्र मोदी, अमित शाह और अन्य बीजेपी नेताओं ने सोनिया गांधी और गांधी परिवार के ख़िलाफ़ कई सारे शब्दों का प्रयोग किया है, जिनकी सभ्य समाज में कोई जगह नहीं है. बीजेपी ने इन पर कभी कोई कार्रवाई नहीं की है.''

गांधी का गुजरात कैसे बना हिन्दुत्व की प्रयोगशाला?

गुजरात में विकास पहले 'पगलाया' फिर 'धार्मिक' बन गया

उन्होंने नरेंद्र मोदी के ताज़ा बयान पर कहा कि उनके पास कोई मुद्दे नहीं है, इसलिए वे इन मुद्दों को उछाल रहे हैं.

मणिशंकर अय्यर का विवादित बयान आने के बाद गुरुवार से भी नरेंद्र मोदी ने अपनी चुनावी रैलियों में कांग्रेस पर जम कर हल्ला बोला.

लेकिन शुक्रवार की रैली में उन्होंने कई कांग्रेसी नेताओं के नाम गिनाए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'चुप रहता हूँ क्योंकि प्राथमिकता काम है'

मोदी ने कहा, "दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोदी सरकार राक्षस राज की तरह है और मोदी रावण हैं. यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष रहे प्रमोद तिवारी ने कहा था कि मोदी हिटलर, मुसोलिनी और गद्दाफ़ी जैसे नेताओं की सूची में हैं. दिन और रात कांग्रेस ने मुझे गालियाँ दी हैं. मैं इसलिए चुप रहता हूँ क्योंकि मेरी प्राथमिकता काम है."

नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक कांग्रेसी नेता ने उन्हें बंदर कहा था और जयराम रमेश ने भस्मासुर से उनकी तुलना की थी. बेनी प्रसाद बर्मा ने उन्हें पागल कुत्ता कहा था, तो ग़ुलाम नबी आज़ाद ने उन्हें गंगू तेली कहा था.

उन्होंने कहा कि इमराम मसूद को कांग्रेस ने टिकट दिया था, जिन्होंने कहा था कि वे मोदी को टुकड़ों में काट देंगे. जबकि रेणुका चौधरी ने उन्हें वायरस कहा था.

क्या गुजरात सीएम मोदी को मिस कर रहा है?

गुरुवार को मणिशंकर अय्यर ने एक इंटरव्यू के दौरान नरेंद्र मोदी के बारे में कहा था, "ये आदमी बहुत नीच किस्म का है. इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?"

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लेकिन इसके तुरंत बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर मणिशंकर के बयान की निंदा की और माफ़ी मांगने को कहा.

अपने ट्वीट में उन्होंने कहा था, "बीजेपी और प्रधानमंत्री कांग्रेस पर हमला करने के लिए नियमित रूप से गंदी भाषा का इस्तेमाल करते हैं. कांग्रेस की एक अलग संस्कृति और विरासत है. प्रधानमंत्री के लिए मणिशंकर अय्यर ने जिस भाषा और लहजे का इस्तेमाल किया है, मैं उसे ठीक नहीं मानता हूं. उन्होंने जो कहा, कांग्रेस और मैं दोनों ही उनसे इसके लिए माफी की उम्मीद करता हूं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए