'आर्थिक संकट फिर से आएगा'

ऐलन ग्रीनस्पैन
Image caption ग्रीनस्पैन का कहना है कि उन्होंने पहले भी ये भविष्यवाणी की थी.

दुनिया एक और आर्थिक संकट से गुज़रेगी, ये कहना है अमरीकी केंद्रीय बैंक के पूर्व प्रमुख ऐलन ग्रीनस्पैन का.

बीबीसी के साथ एक ख़ास बातचीत में अमरीकी फ़ेडरल रिज़र्व बैंक के पूर्व प्रमुख ने कहा है, “ये संकट फिर से आएगा लेकिन इस बार थोड़ा अलग होगा.’’

ग्रीनस्पैन का कहना है कि उन्होंने पहले भी भविष्यवाणी की थी कि बाज़ार में लंबे समय से जारी उछाल की प्रतिक्रिया होगी और वो गिरेंगे.

लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि इससे उबरने में भले ही वक्त लगे और प्रक्रिया काफ़ी मुश्किल हो लेकिन वैश्विक अर्थव्यवस्था अंतत: संभल जाएगी.

ग्रीनस्पैन जब अमरीकी फ़ेडरल रिज़र्व के चेयरमैन थे तो उनके बारे में कहा जाता था कि ये आदमी बाज़ार को हिलाने की ताक़त रखता है.

अमरीकी निवेश बैंक लीमैन ब्रदर्स के धराशायी होने और वैश्विक आर्थिक मंदी की शुरूआत के ठीक एक साल बाद, बीबीसी से हुई इस बातचीत में उन्होंने कहा, “हर आर्थिक संकट एक दूसरे से अलग होता है लेकिन जड़ में हमेशा एक ही बात होती है और वो है इंसान की ये सोच कि अच्छा वक्त अगर बहुत समय से चल रहा है तो वो मानने लगता है कि हमेशा ऐसा ही रहेगा.’’

उन्होंने कहा कि ये मनुष्य की प्रकृति में होता है.

बचने का तरीका

उनका कहना है कि मौजूदा संकट सब-प्राइम मॉर्गेज—यानि मकानों के लिए दिए गए कर्ज़ जिनके चुकाए जाने की क्षमता की पूरी जांच पड़ताल नहीं की गई थी—की वजह से शुरू हुआ लेकिन कोई दूसरी चीज़ भी उत्प्रेरक का काम कर सकती थी.

उन्होंने कहा है कि आनेवाले संकट से बचने का तरीका यही है कि निवेशकों और सरकारों को धोखाधड़ी के ख़िलाफ़ सतर्क रहना होगा और बैंकों की पूंजी को और बढ़ाने की शर्त रखनी होगी.

उनका कहना है, “इन नियमों से फ़ायदा होगा कि बैंकों के पास रोज़मर्रा के कारोबार के लिए तो पैसा होगा ही साथ ही अगर कोई अपना पैसा वापस निकालना चाहे तब भी कोई मुश्किल नहीं हो.’’

संबंधित समाचार