ओपेल और वॉक्सहॉल मैगना को मिलेंगी

  • 10 सितंबर 2009
जनरल मोटर्स और ओपेल
Image caption ओपेल के यूरोप में लगभग 54,500 कर्मचारी काम करते हैं

जनरल मोटर्स ने अपनी दो कंपनियों ओपेल और वॉक्सहॉल को कनाडा की कार पुर्ज़े बनाने वाली कंपनी मैगना को बेचने की घोषणा की है.

जनरल मोटर्स के इस फ़ैसला का जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल ने स्वागत करते हुए कहा है कि वह इस फ़ैसले पर बहुत ख़ुश हैं.

कनाडियन कंपनी मैगना को रूस के स्बेरबैंक का समर्थन हासिल है. मैगना ने कहा है कि वह जर्मनी स्थिति सभी चार कारख़ानों को खुला रखेगा यानी उनमें उत्पादन जारी रहेगा.

लेकिन ब्रिटिश मज़दूर संगठनों ने वॉक्सहॉल में काम करने वाले लगभग साढ़े पाँच हज़ार कर्मचारियों के भविष्य पर चिंता जताई है. ग़ौरतलब है कि ओपेल ब्रांड की कार कंपनियाँ जर्मनी में बनती हैं जबकि वॉक्सहॉल ब्रिटेन में कार बनाती है.

मैगना के एक प्रवक्ता ने कहा कि ब्रिटेन के ल्यूटन स्थित वैन कारख़ाने में उत्पादन 2013 तक जारी रखा जाएगा और उसके बाद भी कारख़ाने में कामकाज जारी रखने के लिए रास्ता निकालने की कोशिश की जाएगी.

ब्रिटेन के मज़दूर संगठन यूनाइट के महासचवि टोनी वुडली ने कहा है, "वॉक्सहॉल के मालिकाना हक़ के बारे में जारी संदेह के बादल अब छँट गए हैं लेकिन वॉक्सहॉल के ब्रिटेन स्थित कारख़ानों के दीर्घकालीन भविष्य के बारे में अनिश्चितता अभी छँटी नहीं है."

टोनी वुडली ने कहा, "हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि कारख़ानों में बड़ा फेरबदल करने की प्रक्रिया में ब्रिटेन स्थित कारख़ाने और लोगों के साथ अनुचित रूप से बर्ताव ना किया जाए."

मर्केल की निजी जीत

जनरल मोटर्स नई ओपेल कंपनी में 55 प्रतिशत भागीदारी मैगना और रूसी स्बेरबैंक को बेचेगी, कर्मचारियों को दस प्रतिशत भागीदारी मिलेगी और बाक़ी हिस्सा जनरल मोटर्स के पास ही रहेगा.

Image caption एंगेला मर्केल ने इस सौदे को प्रतिष्ठा का मुद्दा बना लिया था

जनरल मोटर्स की तरफ़ से जारी एक वक्तव्य में कहा गया है कि अब भी बहुत से महत्वपूर्ण मुद्दों को सुलझाया जाना बाक़ी है जिनमें ख़र्च में कटौती करने के कार्यक्रमों को मज़दूर संगठनों की लिखित रज़ामंदी भी शामिल है.

जनरल मोटर्स ने कहा है कि अभी जर्मन सरकार से वित्तीय सहायता पैकेज को भी अंतिम रूप दिया जाना बाक़ी है.

बीबीसी को कारोबारी मामलों के संवाददाता मार्टिन शंकलमैन का कहना है कि ये एक ऐसा विकल्प था जिसका जनरल मोटर्स का बोर्ड विरोध कर रहा था.

ब्रिटेन के मज़दूर संगठनों ने भी इसका विरोध किया था क्योंकि उन्हें आशंका थी कि ज़्यादा बड़ी संख्या में कर्मचारियों की छँटनी ब्रिटेन में ही हो सकती है.

इन मज़दूर संगठनों ने इस विकल्प का समर्थन किया था कि जनरल मोटर्स वॉक्सहॉल का मालिकाना हक़ अपने पास ही रखे और यह विकल्प ब्रिटेन में कर्मचारियों की नौकरियाँ बचाने के लिए सबसे बेहतर साबित हो सकता था.

जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल ने कहा है कि इस मामले पर लंबी और धैर्यपूर्वक चली बातचीत के बाद यह समझौता हो सका है.

बर्लिन स्थित बीबीसी संवाददाता स्टीव रोज़ेनबर्ग का कहना है कि यह समझौता एंगेला मर्केल के लिए एक निजी जीत है क्योंकि उन्होंने इस सौदे को अपनी प्रतिष्ठा का मुद्दा बना लिया था.

पूरे यूरोपय में ओपेल के कारख़ानों में लगभग 54 हज़ार 500 कर्मचारी काम करते हैं जिनमें से लगभग 25 हज़ार जर्मनी में हैं.

वॉक्सहॉल ब्रिटेन में लगभग साढ़े पाँच हज़ार कर्मचारियों को नौकरी देता है और ये कर्मचारी मुख्यरूप से दो कारख़ानों - ल्यूटन और एलेसमेयर पोर्ट में काम करते हैं.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है