पायलट और प्रबंधन में गतिरोध जारी

  • 10 सितंबर 2009

भारत की सबसे बड़ी निजी विमान सेवा जेट एयरवेज़ के 400 से ज़्यादा पायलट तीसरे दिन भी काम पर नहीं लौटे है.

Image caption जेट एयरवेज़ की उड़ानों पर बड़ा असर पड़ा है

समाचार एजेंसियों के मुताबिक़ पायलटों और प्रबंधन के बीच असहमति के बीच तीसरे दिन क़रीब 200 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गई हैं.

जेट एयरवेज़ के पायलट अपने दो सहयोगियों को नौकरी से निकाले जाने को लेकर सामूहिक अवकाश पर चले गए हैं.

पायलटों के आंदोलन की अगुआई कर रहे नेशनल एविएटर्स गिल्ड के संयुक्त महासचिव कैप्टन सैम थॉमस ने समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ बातचीत में कहा कि स्थिति में कोई बदलाव नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा, "अभी तक कोई बातचीत नहीं हुई है. स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है. हमें प्रबंधन की ओर से बातचीत का कोई न्यौता नहीं मिला है."

दूसरी ओर जेट एयरवेज़ के एक प्रवक्ता ने बताया है कि 400 पायलटों के अवकाश पर चले जाने के कारण गुरुवार को अभी तक 163 घरेलू और 35 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द कर दिया गया है.

स्थिति से निपटने के लिए कंपनी ने एक आपदा प्रबंधन केंद्र स्थापित किया है, जो दिन-रात स्थिति पर नज़र रखे हुए है.

संबंधित समाचार