चीन की आर्थिक वृद्धि में तेज़ी

  • 23 अक्तूबर 2009
चीन
Image caption चीन की आर्थिक वृद्धि में तेज़ी आई है

चीन का कहना है कि वह इस साल आठ प्रतिशत विकास दर के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में बढ़ रहा है. पिछले साल तीसरी तिमाही के दौरान देश की आर्थिक विकास दर 8.9 प्रतिशत रही थी.

ये आंकड़े इस साल की पहली तिमाही के 7.9 प्रतिशत के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा हैं और ये पिछले साल की सबसे तेज़ वृद्धि दर है.

सितंबर तक देश की आर्थिक विकास दर 7.7 प्रतिशत थी.

राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के मुताबिक इस साल के पहली तीन तिमाही के दौरान खुदरा बिक्री दर 15.1 प्रतिशत रही.

पिछले नौ महीनों के दौरान 96.6 लाख वाहन बेचने के साथ चीन दुनिया का सबसे बड़ा कार बाज़ार बन गया है. इस साल कार बिक्री की दर 34 प्रतिशत तक पहुंच गई.

सरकारी निवेश

साल 2008 के अंत में चीनी सरकार ने 586 अरब डॉलर के सहायता पैकेज की घोषणा की थी जिसका बड़ा हिस्सा आधारभूत ढांचे, मसलन, रेल और सड़क निर्माण पर खर्च होना था.

ताज़ा आंकड़े बताते हैं कि इस निवेश की वजह से इस साल की शुरुआत में देश के सकल घरेलू उत्पाद में 88प्रतिशत तक की वृद्ध दर्ज की गई और ये निवेश देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.

कारखानों, निर्माण और दूसरी स्थाई संपत्तियों पर निवेश में पिछले नौ महीनों के दौरान काफी बढ़ोत्तरी देखी गई.

लेकिन कारखाना मालिकों का कहना है कि उत्पाद में बढ़ोत्तरी भले ही हुई हो लेकिन सामानों के मूल्य में आर्थिक मंदी के पहले की स्थिति की तुलना में भी कमी आई है.

तमाम क्षेत्रों में बेरोज़गारी दर अभी भी बहुत ज़्यादा है और कई कारखानों में तो मज़दूरों को कम काम मिल रहा है जिसका उनकी आय में भी कमी आई है.

अब नीति निर्धारकों के सामने अगली चुनौती यही है कि इस सहायता योजना की समीक्षा करें और देश के राष्ट्रीयकृत बैंकों ने जो बड़े पैमाने पर ऋण बांटे हैं उसमें कटौती करें.

अगर सहयता योजना को वापस लिया जाता है तो उम्मीद है कि निजी क्षेत्र में मांग बढ़ेगी और इससे देश की विकास दर स्थिर बनी रहेगी.

संबंधित समाचार