चीनी पाइपों पर भारी आयात कर

  • 6 नवंबर 2009
अमरीका
Image caption अमरीका का कहना है कि चीन तेल पाइपें औसत से कम दाम पर बेच रहा है

अमरीका के वाणिज्य मंत्रालय ने चीन से तेल पाइपों पर 99 प्रतिशत तक का आयात कर लगा दिया है. अमरीका का कहना है कि चीन अमरीका के बाज़ार में औसत से कम कीमत में ये तेल पाइप बेच रहा है.

अमरीकी वाणिज्य मंत्रालय का कहना है कि चीनी सामान पर 'एंटी डंपिंग' यानि अमरीकी बाज़ार में कम कीमत पर सामान बेचने का शुल्क लगाया जा रहा है.

ये हाल में अमरीका और चीन के बीच व्यापार को लेकर उभरे विवादों की कड़ी में नवीनतम विवाद है. चीन ने अमरीकी कार्रवाई को 'व्यापार क्षेत्र में संरक्षणवादी क़दम' बताया है.

ये क़दम बराक ओबामा की अमरीकी राष्ट्रपति के रुप में चीन यात्रा के दस दिन पहले उठाया गया है. वे 15 से 18 नवंबर तक चीन की यात्रा करेंगे.

सितंबर में अमरीका ने चीन में बने टायरों पर अपने उद्योग को बचाने के लिए कर लगाने की धोषणा की थी जिससे ओबामा प्रशासन के समक्ष पहला बड़ा व्यापार विवाद उभरा था.

जाँच की माँग

अमरीकी वाणिज्य मंत्रालय ने कहा है कि उसकी जानकारी के मुताबिक चीन के उत्पादकों और निर्यातकों ने तेल पाइपों को अमरीका में सामान्य कीमत से शून्य से 99.14 प्रतिशत कम पर बेचीं.

वाणिज्य मंत्रालय का कहना है कि 2008 में चीन से आयात का मुल्य 2.6 अरब डॉलर रहा.

अमरीका की कई कंपनियों और एक बड़े श्रम संगठन ने वहां के वाणिज्य मंत्रालय से कहा था कि वो चीन के इस्पात और लोहे की बनी पाइपों और अन्य सामान की कीमतों की जांच करे.

चीन ने कहा है कि वो अपने औद्योगिक हितों की रक्षा करेगा और उसने अमरीका से कहां कि वो ''चीन की कंपनियों को समानता की नज़र से देखे और बिना भेदभाव के पेश आए.''

चीन के वाणिज्य मंत्रालय से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है, '' चीन रक्षावादी नीतियों के दुरुपयोग का कड़ा विरोध करता है हम अपने उद्योग की रक्षा के लिए सभी क़दम उठाएँगे."

बीजिंग ने विश्व व्यापार संगठन में अपने यहां बनने वाली इस्पात पाइपों, ट्यूब्स, बोरों आदि पर अमरीका मे लगाए जा रहे एंटी ड़पिंग करों का विरोध किया है.

साथ ही बदले की कार्रवाई के तौर पर उसने अमरीका से आयातिक मुर्गो और ऑटो पार्ट्स की कीमतों की भी जांच शुरु कर दी है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार