क़ीमतों पर राज्यों से बातचीत करेंगे प्रधानमंत्री

  • 13 जनवरी 2010
Image caption भारत में रोजमर्रा की वस्तुओं की की़मतों में भारी बढ़ोत्तरी हुई है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बढ़ती कीमतों पर मुख्यमंत्रियों से बातचीत करेंगे.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को हुई कैबिनेट की मूल्य संबंधी समिति की बैठक में ये निर्णय किया गया.

बैठक के बाद कृषि मंत्री शरद पवार ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि कीमतें काबू करने की मुख्य भूमिका राज्यों की है इसलिए उनसे बातचीत की जाएगी.

शरद पवार ने भरोसा जताया कि चार से आठ दिन के भीतर आवश्यक वस्तुओं और हफ़्ते-दस दिन में चीनी के दाम पर काबू पा लिया जाएगा.

उन्होंने बताया कि इस बैठक में निर्णय किया गया कि चीनी कीमतों को कम करने के लिए खाडसारी को 31 दिसंबर, 2010 तक शून्य शुल्क पर आयात करने की छूट होगी और इसके आयात की कोई सीमा भी नहीं होगी.

पत्रकारों से बातचीत में शरद पवार मीडिया पर भड़क उठे. उनका कहना था कि मीडिया में उनके बयान को ग़लत तरीके से पेश किया.

उल्लेखनीय है कि शरद पवार ने सोमवार को चीनी के दाम से जुड़े एक सवाल के जवाब में कहा था, "मैं कोई ज्योतिषी नहीं हूँ कि बता सकूँ कि दाम कब कम होंगे."

विपक्षी दलों ने शरद पवार के बयान को 'ग़ैर ज़िम्मेदाराना' क़रार दिया था और कहा था कि अगर वे महंगाई कम नहीं कर सकते तो उन्हें इस्तीफ़ा दे देना चाहिए.

भाजपा ने तो महंगाई के ख़िलाफ़ 18 से 20 जनवरी के बीच ज़िला और तालुका स्तर पर विरोध प्रदर्शन करने की घोषणा की है.

संबंधित समाचार