टोयोटा चार लाख और कारें वापस लेगा

टोयोटा
Image caption टोयोटा को पूर्व में भी अपनी कई गाड़ियों को वापस बुलाना पड़ा है

जापान की जानी मानी कार कंपनी टोयोटा ने प्रायस मॉडल समेत चार लाख और कारों को वापस लेने का फ़ैसला किया है. इससे पहले कंपनी पहले ही तकनीकी ख़राबी के कारण पूरी दुनिया से अपनी 80 लाख कारें वापस ले चुकी है.

जापान में बेची गई क़रीब दो लाख हाइब्रिड प्रायस कारों को ब्रेक की समस्या के कारण वापस लेने का फ़ैसला किया है.

टोक्यो में बीबीसी संवाददाता रोलैंड ब्यूर्क का कहना है कि कंपनी दुनिया भर में अपनी अच्छी छवि बनाए रखना चाहता है.

कंपनी के अध्यक्ष अकियो टोयोडा ने ग्राहकों से माफ़ी मांगते हुए कहा है कि वो इस कार में आई ख़राबियों के कारण कंपनी के सम्मान को लगी ठेस से निपट रहे हैं.

वर्ष 2009 में प्रायस जापान की सबसे अधिक बिकने वाली कार थी जबकि दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय हाइब्रिड मॉडल भी है.

जापान और अमरीका में ख़राब सड़कों पर प्रायस कारों के ब्रेक में समस्याएं आई थीं. ये समस्याएं पिछले साल मई के महीने के बाद बेची गई कारों में आ रही थीं. इन कारों की संख्या क़रीब दो लाख 70 हज़ार बताई गई है.

अमरीका में प्रायस कारों में ब्रेक फेल होने की 124 घटनाओं की रिपोर्ट आई है.

टोयोटा का कहना है कि समस्या एक सॉफ्टवेयर के कारण थी जिसे अब ठीक कर लिया गया है और इस वर्ष बेची गई कारों में यह समस्या बिल्कुल नहीं है.

कंपनी का कहना है कि सिर्फ़ जापान में बेची जाने वाली हाइब्रिड कार साइ और वैश्विक स्तर पर बिकने वाली लेक्सस एचएस 250 एच को भी वापस बुलाया जाएगा.

इससे पहले टोयोटा ने अपनी 80 लाख दूसरी गाड़ियां एक्सेलरेटर में आई ख़राबियों के कारण वापस बुलाई थीं.

इन कारों को वापस बुलाए जाने के कारण टोयोटा को क़रीब दो अरब डॉलर का नुकसान होने वाला है.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है