ब्रिटेन से धन भेजने वालों को सलाह

Image caption ब्रिटेन से हर साल चार अरब डॉलर दुनिया के कई देशों में भेजे जाते हैं

ब्रितानी सरकार ने अपने परिवार और दोस्तों को पैसा भेजने वाले लोगों से आग्रह किया है वे इस काम के लिए बैंकों और मनी ट्रांसफ़र कंपनियों जैसे आधिकारिक तरीक़ों का ही इस्तेमाल करें.

मंगलवार को जारी की गई विशेष सूचना में अंतरराष्ट्रीय विकास मंत्री गैरेथ थॉमस ने कहा है कि जितनी रक़म भेजी जाती है उसका एक-तिहाई हिस्सा अनधिकृत तरीक़े से ब्रिटेन से बाहर भेजा जाता है.

'मनी मेड क्लियर' नाम से जारी की गई इस सूचना में लोगों को बताया गया है कि उनके पास अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को पैसे भेजने के क्या-क्या विकल्प उपलब्ध हैं.

ब्रिटेन से जिन देशों में सबसे अधिक धन भेजा जाता है उनमें भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, नाइजीरिया, जमैका और घाना शामिल हैं.

फाइनेंशियल सर्विसेज़ अथॉरिटी यानी एफ़एसए ने इस सूचना को तैयार किया है जिसका उद्देश्य लोगों को उचित और सुरक्षित तरीक़े से धन भेजने के तरीक़ों के बारे में बताना है, इसमें यह भी बताया गया है कि अगर उनका भेजा हुआ पैसा सही ठिकाने पर न पहुँचे तो क्या करना चाहिए.

गैरेथ थॉमस ने कहा, "हम जानते हैं कि ब्रिटेन से लोग अपने प्रियजनों को पैसे भेजते हैं, कई मामलों में तो लोग अपनी ज़रूरतों के लिए उस धन पर आश्रित होते हैं इसलिए हम चाहते हैं कि वे सुरक्षित तरीक़े से अपना धन भेजें ताकि उनकी मेहनत की कमाई ग़लत हाथों में न पड़े."

कुछ साल पहले पाकिस्तान में आए भूकंप के बाद ब्रिटेन से पाकिस्तान भेजी गई रकम तीन गुना बढ़ गई थी जिसके बाद बैंकों ने पाकिस्तान पैसे भेजने की शर्तें आसान कर दी थीं, अब हैती में आए भूकंप के बाद भी ऐसा ही किया जा रहा है.

ब्रिटेन से हर साल चार अरब पाउंड यानी लगभग लगभग 300 अरब रुपए दुनिया के विभिन्न देशों में भेजे जाते हैं.

एफ़एसए का कहना है कि मित्रों और रिश्तेदारों के ज़रिए धन भेजना वैसे तो आसान जान पड़ता है लेकिन अगर कोई गड़बड़ हो तो सरकार उसमें कोई मदद नहीं कर सकती.

संबंधित समाचार