खाद्य महँगाई दर में मामूली गिरावट

महँगाई पर प्रदर्शन
Image caption महँगाई का मुद्दा संसद में भी ज़ोर-शोर से उठा

फ़रवरी माह के आख़िर हफ़्ते में खाने-पीने की चीजों के दामों में मामूली कमी देखने को मिली है.

इस दौरान खाद्य महँगाई की दर घटकर 17.81 फ़ीसदी पर आ गई.

गुरुवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 27 फरवरी को समाप्त सप्ताह के दौरान खाद्य मुद्रास्फ़ीति 0.06 प्रतिशत गिरी. इसके पिछले हफ़्ते यह 17.87 प्रतिशत पर थी.

जानकारों की राय में खाने-पीने की वस्तुओं के दामों में आने वाले सप्ताह में और कमी आ सकती है. फ़रवरी के आख़िर में होली का त्यौहार होने के कारण भी कई सामानों के दाम ऊँचे बने रहे.

लेकिन डीज़ल-पेट्रोल के दाम बढ़ाने का असर अभी महँगाई दर पर नहीं दिखा है क्योंकि यह 26 फ़रवरी को ही लागू हुई है.

खाद्य वस्तुओं के अलावा थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महँगाई की मासिक दर मार्च में दस फ़ीसदी के पार जा सकती है.

हालाँकि गेहूँ की फ़सल अच्छी होने के कारण इस दौरान खाद्य महंगाई दर में कमी आने की संभावना है.

अगर पिछले साल फ़रवरी से तुलना की जाए तो आवश्यक खाद्य वस्तुएं अब भी महंगी बनी हुई हैं.

दालों की कीमत पिछले साल के मुकाबले लगभग 34 फ़ीसदी ज़्यादा रही. जबकि इससे एक सप्ताह पूर्व दालों के भाव वार्षिक आधार पर 35 प्रतिशत ऊपर चल रहे थे.

इस दौरान आलू 22.46 फ़ीसदी मंहगा हुआ और प्याज तीन फ़ीसदी. साप्ताहिक आधार पर पोल्ट्री चिकन सात प्रतिशत महंगा हुआ, तो दूध, जौ और सब्जियों के दाम एक-एक प्रतिशत बढ़े. इस दौरान चाय तीन प्रतिशत, चना और उड़द दो प्रतिशत और कच्चे कपास और चारे के दाम एक प्रतिशत गिरे.

संबंधित समाचार