विकास दर 8.5 प्रतिशत होगी : मनमोहन

मनमोहन सिंह
Image caption प्रधानमंत्री को पूरी उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में देश की विकास दर तेज़ी से बढ़ेगी

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का कहना है कि अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था में 8.5 प्रतिशत की दर से वृद्धि होगी और यह अगले वर्ष नौ प्रतिशत तक हो जाएगी.

इस वित्त वर्ष में अर्थव्यस्था की अनुमानित विकास दर 7.2 प्रतिशत रखी गई है.

योजना आयोग की आधारभूत ढांचा संबंधी एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 12वीं पंचवर्षीय योजना में देश के आर्थिक विकास को बढ़ा कर प्रति वर्ष दस प्रतिशत करने की कोशिश की जाएगी.

12 वीं पंचवर्षीय योजना 2012 से शुरु होगी. प्रधानमंत्री का कहना था कि इस योजना में गरीबी उन्मूलन और युवाओं के लिए विकास के अवसर पैदा करने पर ज़ोर दिया जाएगा.

उनका कहना था, ‘‘हमें उम्मीद है कि इस वर्ष (2010-11) में विकास दर 8.5 प्रतिशत तक रहेगी... और अगले वित्त वर्ष (2011-12) में हम नौ प्रतिशत की विकास दर हासिल कर लेंगे.’’

प्रधानमंत्री का कहना था, ‘‘ ग़रीबी समाप्त करने और युवा लोगों के लिए भविष्य में रोज़गार के अवसर पैदा करने के लिए हमें विकास दर की गति प्रति वर्ष दस प्रतिशत करनी होगी.हम अगली पंचवर्षीय योजना में इसी लक्ष्य को ध्यान में रख रहे हैं.’’

प्रधानमंत्री का यह बयान काफ़ी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि 11 पंचवर्षीय योजना में नौ प्रतिशत विकास दर का लक्ष्य रखा गया था जो फिलहाल पूरा होता नज़र नहीं आ रहा है. 11 वीं पंचवर्षीय योजना में औसत विकास दर आठ प्रतिशत तक रहने की संभावना है.

हालांकि भारतीय अर्थव्यवस्था में पिछले वित्त वर्ष को छोड़ कर तीन वर्षों में लगातार नौ प्रतिशत की दर से विकास हुआ है. पिछले वित्त वर्ष में वैश्विक मंदी के कारण विकास दर मात्र 6.7 प्रतिशत रही थी.

संबंधित समाचार