ग्रीस को 30 अरब यूरो कर्ज़ की पेशकश

  • 11 अप्रैल 2010
Image caption यूरो देशों में हुई सहमति की घोषणा करते हुए लक्ज़मबर्ग के प्रधानमंत्री

यूरो मुद्रा का प्रयोग करनेवाले 16 देशों में कर्ज़ संकट में घिरे ग्रीस को कर्ज़ देने के बारे में सहमति हो गई है जो ग्रीस के माँगने पर उसे दी जाएगी.

इन देशों के वित्तमंत्रियों ने ग्रीस को 30 अरब यूरो या 40 अरब डॉलर तक का कर्ज़ देने के लिए व्यवस्था करने के लिए हामी भरी है.

इस कर्ज़ के लिए ब्याज़ की दर अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के मापदंडों के अनुरूप लगभग पाँच प्रतिशत रखी गई है.

यूरोदेशों के वित्तमंत्रियों के बीच बैठक कॉन्फ़्रेन्सिंग से हुई जिसके बाद लक्ज़मबर्ग के प्रधानमंत्री जॉं क्लॉड जंकर ने सहमति की घोषणा की.

यूरो देशों की और से जारी किए गए एक बयान में कहा गया है,"हमें विश्वास है कि ग्रीक अधिकारियों और उसके यूरोपीय सहयोगियों के संकल्पबद्ध प्रयासों से ग्रीक अर्थव्यवस्ता पर आए संकट को दूर किया जा सकेगा."

कर्ज़

लक्ज़मबर्ग के प्रधानमंत्री जॉं क्लॉड जंकर ने प्रस्तावित कर्ज़ की जानकारी देते हुए कहा कि इस कर्ज़ में किसी तरह की कोई सब्सिडी का प्रावधान नहीं है.

उन्होंने साथ ही बताया कि इस कर्ज़ को अभी जारी नहीं किया गया है और ये ग्रीस सरकार के निर्णय पर निर्भर करेगा कि उसे ये कर्ज़ चाहिए या नहीं.

लक्ज़मबर्ग के प्रधानमंत्री ने कहा कि इस कर्ज़ के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष से भी सहयोग लिया जाएगा.

यूरोपीय देशों के कर्ज़ के इस प्रस्ताव का अर्थ ये हुआ कि अब ग्रीस अपने कर्ज़ की अदायगी के लिए वित्तीय बाज़ार में जाने से बच सकता है जो कि इससे पहले एकमात्र उपाय था.

संकट

ग्रीस को अगले महीने तक अपने कर्ज़ की किश्त चुकाने के लिए साढ़े 11 अरब यूरो की व्यवस्था करनी है.

ग्रीस पर लगभग 300 अरब यूरो का कर्ज़ है.

हालाँकि ग्रीस अभी तक कहता रहा है कि वह अपने संकट के हल के लिए अपने यूरोपीय मित्रों और अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के सामने झोली नहीं फैलाएगा.

लेकिन निवेशकों का मानना है कि ग्रीस के पास अब कोई और विकल्प नहीं बचा है.

वित्तीय बाज़ार से मिलनेवाले ग्रीस के कर्ज़ की कीमत लगातार बढ़ती जा रही है और पिछले सप्ताह बाज़ार में उससे साढ़े सात प्रतिशत तक का रिकॉर्ड ब्याज़ वसूला जा रहा था.

संबंधित समाचार