ग्रीस की वजह से गिरे दुनिया भर के बाज़ार

सरकार के कड़े आर्थिक कदमों का विरोध
Image caption ग्रीस के लोग सरकार के कड़े आर्थिक कदमों के विरोध में सड़कों पर उतर आए हैं

कर्ज़ में डूबे ग्रीस के संकट की वजह से अमरीका और यूरोप के शेयर बाज़ारों के बाद एशियाई देशों के शेयर बाज़ारों में भी शुरुआती कारोबार में गिरावट आई है.

जापान के शेयर बाज़ार में शुरुआती कारोबार तीन प्रतिशत की गिरावट के साथ शुरु हुआ तो ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया के बाज़ार लगभग दो प्रतिशत की गिरावट के साथ खुले.

इससे पहले यूरोप और अमरीका के शेयर बाज़ारों में भारी गिरावट आई थी. अमरीका, ब्रिटेन और फ्रांस के शेयर बाज़ारों में दो फ़ीसदी से ज्यादा की गिरावट देखी गई.

ये गिरावट अंतरराष्ट्रीय क्रेडिट एजेंसी 'स्टैंडर्ड एंड पुअर' के ग्रीस की अर्थव्यवस्था को ‘कबाड़’ क़रार देने के बाद आई. इस रिपोर्ट का मतलब है कि ग्रीस अपने कर्ज़ का पूरा भुगतान करने में समर्थ नहीं है.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि देश के अपमान और कड़े आर्थिक कदमों को लेकर लोगों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है और लोग सड़कों पर उतर आए हैं. उनका कहना है कि कर्ज़ का भुगतान अंतरराष्ट्रीय बैंकों को करना चाहिए न कि नागरिकों को.

इस बीच अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) ने ग्रीस के संकट को और गंभीर होने से बचाने के लिए राहत पैकेज को बढ़ाने पर विचार कर रहा है.

मदद की अपील

बाज़ार में आई गिरावट की वजह से डॉलर की तुलना में यूरो की क़ीमत एक साल में सबसे कम स्तर पर चली गई. मंगलवार को यूरो की क़ीमत 1.3144 डॉलर रही.

कच्चे तेल की क़ीमत घटकर 82 डॉलर से भी नीचे आ गई. यह इन दिनों चल रही क़ीमत की तुलना में कम से कम दो डॉलर कम थी.

लंदन के बाज़ार में एल्यूमिनियम और तांबे की क़ीमतें नीचे आईं तो सोने की क़ीमत में भी गिरावट दर्ज की गई.

ग्रीस सरकार ने स्वीकार कर लिया है कि वो अब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार से धन नहीं उठा सकती है और उसने यूरोपीय संघ और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से आर्थिक पैकेज की राशि जल्द जारी करने को कहा है ताकि वो अगले महीने कर्ज़ का भुगतान कर सके.

इसके पहले यूरोपीय संघ के देश में कर्ज़ संकट में घिरे ग्रीस को कर्ज़ देने के बारे में सहमत हो गए थे.

इन देशों के वित्तमंत्रियों ने ग्रीस को 30 अरब यूरो तक का कर्ज़ देने की व्यवस्था करने के लिए हामी भरी थी.

यूरोपीय देशों के कर्ज़ के इस प्रस्ताव का अर्थ ये हुआ कि अब ग्रीस अपने कर्ज़ की अदायगी के लिए वित्तीय बाज़ार में जाने से बच सकता है जो कि इससे पहले एकमात्र उपाय माना जा रहा था.

ग्रीस को अगले महीने तक अपने कर्ज़ की किस्त चुकाने के लिए साढ़े 11 अरब यूरो की व्यवस्था करनी है.

ग्रीस पर लगभग 300 अरब यूरो का कर्ज़ है.

संबंधित समाचार