शेयर बाज़ार में चौतरफ़ा गिरावट

  • 25 मई 2010
Image caption संभल नहीं पा रहे हैं बाज़ार

यूरो मुद्रा वाले देशों की सरकारी कर्ज़ की समस्या से जुड़ी चिंताओं का असर मंगलवार को दुनिया भर के शेयर बाज़ारों पर दिखा जहाँ शेयर मूल्यों में चौतरफ़ा गिरावट हुई है.

बाज़ार पर कोरियाई प्रायद्वीप में बढ़े तनाव का भी असर माना जा रहा है.

लंदन का फ़ूट्सी शेयर सूचकांक 2.54 प्रतिशत नीचे गिर कर बंद हुआ. इसी तरह जर्मनी(2.34%) और फ़्रांस(2.9%) के मुख्य शेयर सूचकांकों भी भारी गिरावट देखी गई.

इससे पहले जापान और दक्षिण कोरिया के शेयर बाज़ार क्रमश: 3.1 प्रतिशत और 2.1 प्रतिशत गिरावट के साथ बंद हुए.

भारत का मुख्य शेयर सूचकांक सेन्सेक्स 447 अंक नीचे गिर कर बंद हुआ.

ऑस्ट्रेलिया, हांगकांग, सिंगापुर, ताइवान और चीन में भी शेयरों में गिरावट रही.

दोपहर तक अमरीका के डाउ जोन्स शेयर सूचकांक में 1.55 प्रतिशत की गिरावट हुई थी.

मुश्किलें

स्पेन के एक प्रमुख बैंक को बचाने के लिए वहाँ के केंद्रीय बैंक को आगे आना पड़ा है, विशेषज्ञों के अनुसार इसका भी असर निवेशकों के आत्मविश्वास पर पड़ा है.

हार्गिव्स लैंस्डाउन शेयर दलाल कंपनी के प्रमुख रिचर्ड हंटर मौजूदा संकट के बारे में कहते हैं, "स्थितियाँ और ख़राब हुई हैं. यूरोप के देशों के बुरे कर्ज़ के विश्व अर्थव्यवस्था में सुधार पर पड़ने वाले संभावित प्रभाव को लेकर बनी चिंता को कोरियाई प्रायद्वीप में बने तनाव की स्थिति ने और बढ़ा दिया है."

हंटर के अनुसार स्थितियाँ इतनी अस्थिर हैं कि बाज़ार में ख़रीदारों का अभाव हो चला है.

एकीकृत मुद्रा यूरो की कमज़ोरी भी स्थिति में सुधार को मुश्किल बना रही है क्योंकि निवेशक यूरो से पल्ला छुड़ा रहे हैं.

संबंधित समाचार