एयर इंडिया की हड़ताल ख़त्म

एयर इंडिया के काउंटर के बाहर लोग
Image caption उड़ानें रद्द होने से यात्री विमानतल पर फँसे रहे

दिल्ली हाईकोर्ट ने एयर इंडिया कर्मचारियों की हड़ताल को ग़ैरक़ानूनी बताते हुए उनसे हड़ताल ख़त्म करने को कहा है.

इसके बाद हड़ताल कर रहे यूनियन ने हड़ताल ख़त्म करने की घोषणा की है.

एयर कॉर्पोरेशन एम्प्लॉइज़ यूनियन और ऑल इंडिया एयरक्राफ़्ट इंजीनियर्स एसोसिएशन ने अपने सदस्यों से तुरंत काम पर लौटने को कहा है.

हालांकि कर्मचारी यूनियनों ने कहा है कि मुख्य कार्मिक आयुक्त के हस्तक्षेप के बाद और लोगों को हो रही परेशानी को ध्यान में रखते हुए हड़ताल समाप्त की गई है.

इससे पहले केंद्रीय नागरिक विमानन मंत्री प्रफुल्ल पटेल ने एयर इंडिया के कर्मचारियों की हड़ताल की निंदा करते हुए इसे ग़ैरक़ानूनी बताया था.

उन्होंने एयर इंडिया प्रबंधन को इस हड़ताल के ख़िलाफ़ कड़े क़दम उठाने की छूट भी दे दी थी.

हालांकि इस बीच एयर इंडिया प्रबंधन हड़ताल कर रहे कर्मचारियों से बातचीत कर रहा था लेकिन बुधवार को शाम तक इसका कोई नतीजा निकला था फिर शाम को हाईकोर्ट का फ़ैसला आ गया.

ख़बरों के मुताबिक इस हड़ताल की वजह से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उडा़नें मिलाकर क़रीब 76 उड़ानें रद्द करनी पड़ीं जिसमें दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और बंगलौर की उड़ानें शामिल हैं.

हड़ताल की वजह से कई हवाई अड्डों पर यात्री फँसे रहे और उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा.

सरकारी एयरलाइन एयर इंडिया के कई कर्मचारी मंगलवार को अचानक राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर चले गए थे.

हाईकोर्ट का फ़ैसला

कर्मचारियों की हड़ताल के ख़िलाफ़ एयर इंडिया को चलाने वाली कंपनी नेशनल एविएशन कंपनी ऑफ़ इंडिया (नासिल) ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था.

नासिल की याचिका पर सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने कर्मचारियों की हड़ताल को ग़ैरक़ानूनी बताते हुए हड़ताल ख़त्म करने के आदेश दिए थे.

इस फ़ैसले के बाद एयर इंडिया के मुख्य महाप्रबंधक (सीएमडी) अरविंद जाधव ने पत्रकारों को बताया कि हाईकोर्ट ने कर्मचारी यूनियन से कहा है कि वे अपनी हड़ताल तुरंत ख़त्म करें और वे पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 31 मई से भी हड़ताल पर न जाएँ.

अरविंद जाधव ने बताया, "अदालत ने कहा है कि कर्मचारी विमानतल पर और एयर इंडिया मुख्यालय सहित कहीं भी किसी भी काम में बाधा न डालें और वहाँ आने वाले लोगों को न रोकें."

इस आदेश के बाद कर्मचारी यूनियन ने ह़डताल समाप्त करने की घोषणा की है.

कार्रवाई

इस बीच ख़बर आई है कि एयर इंडिया प्रबंधन ने कम से कम 17 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है और 15 कर्मचारियों को निलंबित किया गया है. बर्खास्त किए गए लोगों में से कुछ कर्मचारी नेता भी हैं.

लेकिन कर्मचारी नेता केबी कादयान ने कहा है कि बातचीत के दौरान मुख्य कार्मिक आयुक्त ने लिखित में यह आश्लासन दिया है कि किसी भी पक्ष की ओर से किसी के भी ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी.

लेकिन एयर इंडिया के सीएमडी जाधव ने कर्मचारियों की हड़ताल को ग़ैर ज़िम्मेदाराना बताते हुए कहा है कि एयर इंडिया लोक सेवा के लिए चलाई जा रही है और यदि उन्हें परेशानी होती है तो कुछ सख़्त क़दम तो उठाने ही होंगे.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि दो दिनों की हड़ताल से एयर इंडिया को 12 करोड़ रुपयों का नुक़सान हुआ है.

जाधव ने कहा कि स्थिति सामान्य होने में चार से पाँच दिनों का समय लग सकता है.

संबंधित समाचार